मुरादाबाद : हिंदू रक्षा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी प्रबोधानंद गिरि ने दैनिक जागरण से बातचीत के दौरान कहा कि श्रीराम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सराहनीय है। भगवान श्रीराम भारत की आन, बान और शान हैं। फैसले के बाद मैं खुद अयोध्या गया था। 

सरकार बनाएगी ट्रस्ट

ट्रस्ट को लेकर संतों के विवाद पर बोले कि श्रीराम मंदिर से सभी की महत्वाकांक्षाएं जुड़ी हैं। ट्रस्ट सरकार बनाएगी। इसमें जनता का तो प्रश्न ही नहीं उठता है। ट्रस्ट से ऐसे लोगों को जोड़ा जाए तो श्रीराम मंदिर आंदोलन से जुड़े हों। श्रीराम जन्मभूमि न्यास भी महत्वपूर्ण है। आंदोलन किया। इस आंदोलन में उनकी अहम भूमिका है। शिलाएं उनके पास हैं। उन्होंने भी बड़ी बात कही है कि श्रीराम मंदिर के लिए उनके पास शिलाएं हैं। 

ट्रस्ट से जुडऩे की होड़ में न रहें अखाड़े 

उन्होंने सभी अखाड़ों से निवेदन किया है कि ट्रस्ट से जुडऩे की होड़ में न रहें। देश रामराज की तरफ बढ़ रहा है तो सभी को हाथ लगाना चाहिए। ट्रस्ट में सरकार नहीं होनी चाहिए। सरकारें बदलती रहती हैं। ट्रस्ट से व्यक्तिगत जुड़े तो सही बात है। अयोध्या फैसले को लेकर पूरा विश्व भारत के मुसलमान की ओर देख रहा था। भारत के मुसलमान ने पूरी दुनिया के सामने मिसाल कायम की है। सौहार्द का अभूतपूर्व उदाहरण दुनिया के सामने प्रस्तुत किया है। मैं मुसलमानों को प्रशंसा करता हूं। 

जनसंख्या नियंत्रण के लिए कठोर कानून बनाने की मांग 

हिंदू रक्षा सेना ने जनसंख्या नियंत्रण के लिए कठोर कानून की मांग करते हुए बुधवार को जिलाधिकारी कार्यालय में पत्र दिया। ये पत्र प्रधानमंत्री को संबोधित था। राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी प्रबोधानंद गिरि ने कहा कि 1947 के बाद देश को ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो निर्णय लेने में सक्षम है। देशहित में उन्होंने ऐसे फैसले लिए हैं जो दूसरी सरकारों ने आज तक नहीं लिए। इसलिए भारत में जनसंख्या नियंत्रण के लिए कठोर कानून बनना चाहिए। कानून बनने से देश प्रगति के रास्ते पर चलेगा। इस पर अगर कानून नहीं बनाया गया तो आने वाले समय में देश में गृह युद्ध होने से नहीं रोक पाएंगे। हर भारतीय के सिर्फ दो ही बच्चे हों। इसमें धर्मपाल सिंह राजपूत, राजबहादुर सिंह, नितिन पारछा, विशाल कुमार, सुमित, गौरव कुमार, सागर चौहान, दानवीर यादव रहे। 

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस