मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

सम्भल। एक बार फिर आलू के दाम धड़ाम हो गए है। कुछ दिनों पहले तक दस से पंद्रह रुपये तक बिकने वाला आलू अब मात्र छह से आठ रुपये किलो तक बिक रहा है। आलू के दाम कम होने के चलते कोल्ड स्टोरेज में भी आलू भरे पड़े है। जबकि जबकि हरी सब्जी दो हजार रुपये प्रति कुंतल से कम नहीं मिल रही है। फुटकर में सह सब्जियां दस से बीस रुपए प्रति किलोग्राम तक महंगी हो गई है। 

बारिश होते ही जहां रही सब्जियों पर महंगाई आई तो, आलू कुछ नरम पड़ा है। इस समय मंडी में औसत दर्जे का आलू 600 रुपये तथा अच्छा आलू 800 रुपये प्रति कुंतल बिक रहा है। जानकारों का मानना हैं कि अगर बारिश होती रही तो आलू पर कुछ महंगाई आ सकती है। अगर बरसात जल्द खत्म हो गई तो फिर आलू के रेट इससे भी कम होने के आसार लगाए जा रहे हैं। कोल्ड स्टोरेज स्वामी हाजी ताहिर ने बताया कि अचानक आलू का रेट काफी कम हो गया है। इससे किसान अब आलू निकालने के लिए कोल्ड स्टोरेज भी नहीं आ रहे हैं। बरसात के बाद जब आलू की निकासी होगी तो आलू के रेट और कम होने के आसार है। यही हाल हरी सब्जियों का बना हुआ है। ऐसी कोई हरी सब्जी नहीं है, जो बीस रुपये प्रति किलोग्राम मंडी में न बिक रही हो। प्रत्येक सब्जी में फुटकर पर दस से बीस प्रति किलोग्राम लिया जा रहा है। 

सब्जियां               थोक                                फुटकर 

आलू                    600 से 800 रुपये तक          1000 से 1200 रुपये तक

अरबी                   20 से 25 रुपये तक             40 रुपये तक

ङ्क्षभडी                  20 रुपये तक                      30 रुपये तक

बैंगन                    20 रुपये तक                      30 रुपये तक

शिमला मिर्च           40 रुपये तक                      60 रुपये तक

लौकी                     8 रुपये तक                      15 से 20 रुपये तक

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप