मुरादाबाद, जेएनएन। दो सप्ताह पहले गल्ला व्यापारी के साथ हुई लूट का पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस ने आरोपितों के पास से साढ़े तीन लाख रुपये, घटना में प्रयुक्त कार, बाइक, तीन तमंचे एवं छ्ह जीवित कारतूस बरामद किए। पुलिस ने लूट की घटना में शामिल सात बदमाशों को गिरफ्तार कर चालान कर दिया।

दो सप्ताह पूर्व नगर के मुहल्ला शिवबाग मंडी निवासी गल्ला व्यापारी वीरेंद्र कुमार जैन अपनी आढ़त पर बैठे थे। दोपहर एक बजे हथियार बंद बदमाशों ने असलहों के बल पर चार लाख रुपये लूटकर धमकी देते हुए फरार हो गए थे। दिन दहाड़े हुई लूट की घटना से लाेग दहशत में थे। पुलिस के आला अधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना कर जल्द खुलासा करने के आदेश दिए। घटना के खुलासे के लिए तीन टीम गठित की गईं। तीनों टीमें अलग-अलग एंगिल पर कार्य कर रही थीं। शनिवार को पुलिस को कामयाबी हाथ लग गई।

छापेमारी करते हुए पुलिस लूट की घटना को अंजाम देनें वाले बदमाशों तक पहुंच गई। पुलिस ने घेराबंदी कर एक-एक करके सभी को दबोच लिया। सात बदमाशों को पुलिस कोतवाली ले आई। यहां लेकर उनसे पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान सभी आरोपित खुल गए। पुलिस को बताया कि वे लूट की घटना को अंजाम देनें के लिए काफी समय से रेकी कर रहे थे। सभी ने मिलकर योजना बनाई। योजना के अनुसार ही उन्होंने लूट की घटना को अंजाम दिया।

पांच लोग टोयटा इटियोज में सवार होकर दोपहर के एक बजे आढ़ती के प्रतिष्ठान पर पहुंचे। जबकि दो लोग बाइक पर मंडी गेट पर खड़े होकर रखवाली कर रहे थे। उन्होंने जल्दी-जल्दी में लूट की घटना को अंजाम दिया। आढ़ती व नौकर का मोबाइल छीनकर सीसीटीवी का डीवीआर निकालकर फरार हो गए। बाइपास से खजुरिया मार्ग पर पहुंचे। यहां से उत्तराखंड के नानकमत्ता पहुंच गए। वहां उन्होंने लूट के रुपयों का बंटवारा किया। इसके बाद घर चले गए।

इस पर प्रभारी निरीक्षक ब्रजेश कुमार यादव ने बताया कि पकड़े गए बदमाश बुद्ध सिंह, जसपाल सिंह उर्फ निक्का, रंजीत सिंह निवासी गांव पिपलिया पिस्तौर थाना नानकमत्ता जनपद ऊधमसिंह नगर, कुलवीर सिंह ग्राम शीतलपुर थाना बिलसण्डा जनपद पीलीभीत, शाहरूख अली निवासी सादक सराय थाना नखासा जनपद सम्भल, सतवंत उर्फ सन्ता निवासी गांव महतोष थाना खजुरिया, मोहन सिंह निवासी पटटी वसंतपुर थाना केमरी शामिल थे। बताया कि आरोपितों के पास से लूट के साढ़े तीन लाख रुपये कैश, घटना में प्रयुक्त एक कार व बाइक, तीन तमंचे और छह जीवित कारतूस बरामद किए गए हैं। सभी आरोपितों विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर चालान कर दिया गया।