अमरोहा। गजरौला के गांव छोया में आंधी से लगभग डेढ़ सौ साल पुराना पीपल का पेड़ गिर गया। पेड़ के नीचे दबकर मां बेटी भी घायल हो गई। वहीं दूसरी ओर जिस मकान के ऊपर पेड़ गिरा वह क्षतिग्रस्त हो गया। घटना के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई। लोग मौके की ओर दौड़ पड़े।

गांव में ग्राम समाज की जमीन पर करीब डेढ़ सौ साल पुराना एक पीपल का पेड़ खड़ा था। शनिवार की सुबह करीब छह बजे आंधी आने से यह पेड़ गिर गया। इस दौरान पड़ोस में सविंद्र के घर पर काम कर रही उनकी पत्नी अतरेश व पुत्री डोली इस पेड़ के नीचे दब गई। चीख पुकार सुनकर आसपास के लोगों की भीड़ जुट गई। उन्हें उपचार के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वही धर्मपाल का मकान भी पेड़ गिरने से क्षतिग्रस्त हो गया। ग्राम प्रधान अमर सिंह ने बताया कि यह पेड़ करीब डेढ़ सौ साल पुराना था और ग्राम समाज की जमीन पर खड़ा था।

हादसा उस वक्‍त हुआ जब सुबह के समय लोग अपने जरूरी काम निपटा रहे थे। रात के समय अगर यह पेड़ गिरता तो अन्‍य लोग भी घायल हो सकते थे। लोगों ने बताया कि पेड़ काफी पुराना है। इससे पहले भी कई  बार आंधी आई लेकिन पेड़ पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा था। अनुमान जताया जा रहा है कि पिछले कई दिनों से रुक रुककर हो रही बारिश की वजह से पेड़ की जड़ कमजोर पड़ गई होगी और इसी की वजह से वह गिर गया।  

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस