मुरादाबाद, जेएनएन। रोडवेज बस के चालक को कोडवर्ड व पासवर्ड बताना होगा और बस में डीजल भर जाएगा। तेल चोरी को रोकने के लिए रोडवेज प्रबंधन ने प्रदेश भर के सभी डिपो के पंपों पर आधुनिक उपकरण लगाना शुरू कर दिया है।  मुरादाबाद के दोनों डिपो के पंपों में उपकरण लगाया जा चुका है। 

दो साल पहले पकड़ी गई थी चोरी 

दो साल पहले पीतलनगरी बस डिपो से 24 हजार लीटर डीजल चोरी का मामला पकड़ा गया था। ऐसे ही मामले प्रदेश कई डिपो में पकड़े जा चुके हैं। इस पर रोक लगाने के लिए सभी डिपो के पंपों में आधुनिक मशीन लगायी जा रही हैं, जो प्रदेश भर के सभी डिपो के पंपों से जुड़ी होगी। इस मशीन से कंपनी से कितना डीजल आया और कितना पंप के टंकी में डाला गया। साथ ही कितना बस में भरा गया। पाइप के अंतिम छोर (नोजल) से कितना डीजल निकला, यह सारी जानकारी आफिस में बैठे हुए अधिकारियों को मिलती रहेगी। मुरादाबाद व पीतल नगरी डिपो के पंप में आधुनिक उपकरण लगाने का काम पूरा हो चुका है। 

प्रत्येक चालक को मिल रहा कोडवर्ड

रोडवेज प्रत्येक चालक को कोडवर्ड व पासवर्ड दे रहा है। चालक डिपो के पंप पर कोडवर्ड बताएगा और पासवर्ड मशीन में डालेगा, तभी टंकी में डीजल भरेगा। चालक को भी बताना पड़ेगा उसने किस बस में कितना डीजल भरवाया, कितने किमी बस को चलाया और कितना डीजल खर्च हुआ।   

सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक शिव बालक ने बताया कि चालक को कोडवर्ड दिया जा रहा है, जिसके आधार पर बसों में डीजल भरा जा रहा है। इस व्यवस्था के बाद डीजल की चोरी नहीं की जा सकती है। 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस