मुरादाबाद (अनुज मिश्र। कोविड-19 के चलते सामूहिक विवाह योजना ही नहीं ऑनलाइन शादी अनुदान योजना भी अधर में लटक गई हैं। वित्तीय वर्ष एक अप्रैल से अब तक इन दोनों योजनाओं के लिए शासन स्तर से बजट आवंटित नहीं हुआ है। इसके चलते वित्तीय वर्ष एक अप्रैल से अभी तक न तो एक भी सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित हुए और न ही ऑनलाइन शादी अनुदान योजना का जरूरतमंदों को लाभ मिला।

मालूम हो कि प्रदेश सरकार ने वर्ष 2017-18 में आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लिए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना और ऑनलाइन शादी अनुदान योजना की शुरूआत की थी। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत एक जोड़े के विवाह के लिए सरकार की ओर से 51 हजार रुपये खर्च किए जाते हैं, इसमें 35 हजार रुपये लड़की के खाते में, 10 हजार रुपये का सामान व छह हजार रुपये आयोजन में खर्च किए जाते हैं। वहीं ऑनलाइन शादी अनुदान योजना के तहत सरकार की ओर से कन्या के पिता को 20 हजार रुपये की मदद की जाती है।इसके लिए ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने वाले की लड़की के पिता की वार्षिक आय 46,080 हजार और शहरी क्षेत्र के लड़की के पिता की वार्षिक आय 56,460 हजार रुपये होनी चाहिए।

वित्तीय वर्ष 2019-20 में पात्रों को चयनित कर दिया गया लाभ

जनपद में वित्तीय वर्ष 2019-20 की स्थिति पर गौर करें तो मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत चिह्नित सभी पात्रों को लाभ दिया गया। बड़े स्तर पर सामूहिक विवाह योजना के कार्यक्रम आयोजित किए गए। वित्तीय वर्ष 2019-20 इस योजना का लाभ पाने वाले जोड़ों और खर्च की गई धनराशि पर

वर्ग विवाहित जोड़ों की संख्या

अल्पसंख्यक               477

अन्य पिछड़ा                         460

अनुसूचित जाति                    483

सामान्य                              63

कुल                                 1483

आवंटित धनराशि                756.33 लाख

व्यय धनराशि                     756.33 लाख

अनुसूचित जाति के निर्धन परिवार के पुत्रियों की शादी योजना पर नजर

(वित्तीय वर्ष 2019-20)

आवंटित धनराशि                           166.80 लाख

व्यय धनराशि                                166.80 लाख

लाभान्वितों की संख्या                       834

सामान्य वर्ग के निर्धन परिवार के पुत्रियों की शादी योजना (वित्तीय वर्ष 2019-20)

आवंटित धनराशि         : 130.80 लाख

व्यय धनराशि           :   130.80 लाख

लाभान्वितों की संख्या  :     654

इन योजनाओं के लिए निदेशालय की ओर से अभी तक धनराशि आवंटित नहीं की गई है। जैसे ही धनराशि आवंटित होगी और इसके संबंध में गाइडलाइन जारी होगी, तब इस संबंध में आगे का कार्य किया जाएगा।

- सुनील कुमारसिंह, जिला समाज कल्‍‍‍‍याण 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस