मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। रामपुर के पास मालगाड़ी दुर्घटना को उत्तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने गंभीरता से लिया है। उन्‍होंने मुख्यालय के अधिकारियों से जांच कराने का आदेश दिया है। जांच समिति का अध्यक्ष मुख्य ट्रैक अभियंता को बनाया गया है। चार विभागाध्यक्षों को सदस्य बनाया गया है।

लखनऊ से मुरादाबाद की ओर आ रही खाली मालगाड़ी शहजाद नगर रामपुर के बीच शुक्रवार की रात 10.10 बजे गुजर रही थी। उसी समय आगे से 11वीं बोगी का पहिया टूट गया और बोगी पटरी से नीचे उतर गई। 11वीं बोगी गिरने के झटके से 12वीं बोगी का एक पहिया नीचे उतर गया था। दुर्घटना राहत ट्रेन के पहुंचते ही कर्मचारियों ने जैक के द्वारा 12 बोगी के पहिया उठाकर पटरी पर रख दिया और दुर्घटनाग्रस्‍त बोगी को छोड़कर अन्य बोगी को काट कर दूसरे स्थान पर ले जाया गया। रात 3:15 बजे क्षतिग्रस्त बोगी को हटाकर ट्रेन संचालन शुरू कर दिया। पांच घंटे लखनऊ मुरादाबाद रेल मार्ग बंद होने से लखनऊ से मुरादाबाद की ओर आने वाली दस ट्रेनों को बदले मार्ग चन्दौसी होकर मुरादाबाद तक चलाया। दुर्घटना राहत कार्य के कारण मुरादाबाद से लखनऊ की ओर जाने वाली ट्रेनों को बीच रास्ते में रोक कर चलाया गया। जिसके कारण 45 ट्रेनों का संचालन एक घंटे से लेकर पांच घंटे तक बाधित हुआ। रात में आने वाली कई ट्रेनें मुरादाबाद सुबह पहुंचीं। रेल प्रशासन ने बीच रास्ते रुकी ट्रेनों के यात्रियों के चाय व पानी की व्यवस्था की थी। सभी स्टेशनों पर वेंडर को सतर्क कर दिया गया था। यात्री की मांग पर खाने पीने की वस्तु उपलब्ध कराएं। देरी से आने पर मुरादाबाद पहुंचने वाली सभी ट्रेनों में पानी भरा गया।

प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि उत्तर रेलवे महाप्रबंधक ने मालगाड़ी दुर्घटना की जांच के लिए मुख्यालय के पांच अधिकारियों की टीम गठित की है। टीम का अध्यक्ष मुख्य ट्रैक इंजीनियर को बनाया गया है। चार अन्य विभाग के प्रमुख को सदस्य बनाया गया है। महाप्रबंधक ने 11 दिन में जांच रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है। माना जा रहा है कि सोमवार से जांच शुरू हो जाएगी।

Edited By: Vivek Bajpai