रामपुर, जेएनएन। राज्य गन्ना प्रतियोगिता वर्ष 2018-19 में रामपुर के किसान मुन्ना लाल ने प्रथम स्थान प्राप्त कर जनपद का गौरव बढ़ाया है। उन्हें यह पुरस्कार कम जमीन में अधिक उत्पादन करने के लिए दिया गया है। उनकी इस उपलब्धि ने जिले के अन्य किसानों के सामने मिसाल पेश की है। अपनी इस सफलता से वह बेहद गदगद हैं।

इस प्रतियोगिता में प्रदेश के छह किसानों को विजेता घोषित किया गया है। इसमें पहले नंबर पर अपने रामपुर की बिलासपुर तहसील के मुंडियाकलां गांव निवासी मुन्ना लाल पुत्र शोभाराम ने पेड़ी संवर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त कर प्रदेश में जनपद का गौरव बढ़ाया है। उन्हें यह उपलब्धि 1962.75 ङ्क्षक्वटल प्रति हेक्टेअर की उपज पैदा करने पर प्राप्त हुई है। उनकी इस उपलब्धि पर उनके परिवार के साथ ही उनके गांव के लोग भी उत्साहित हैं। प्रदेश में सर्वाधिक गन्ना उत्पादन का रिकार्ड बनाने वाले किसान मुन्ना लाल को अच्छी फसल उगाने का जुनून है। वह परिजनों संग खेत में दिन-रात मेहनत कर अच्छा उत्पादन कर रहे हैं। कहते हैं कि गन्ना उत्पादकता में प्रथम पुरस्कार के रूप में चयन होने पर वह बहुत खुश हैं।

निराई-गुड़ाई व सफाई संग समय पर देसी खाद, दवा और पानी से मिली सफलता

मुन्ना लाल का कहना है कि उन्होंने अपनी फसल को पूरी तरह से देसी खाद पर निर्भर रखा। बोआई पहले खेत की मिट्टी की जांच करवाई। उसके बाद जरूरत के अनुसार जमीन में पोषक तत्व डाले। बोआई के बाद समय पर निराई-गुड़ाई व सफाई के साथ समय पर देसी खाद, दवा और पानी भी देते रहे। यह ही कारण है कि उन्हें सफलता मिली।

यह है चयन की प्रक्रिया :

जिला गन्ना अधिकारी हेमराज ङ्क्षसह के अनुसार राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत प्रदेश स्तर पर यह प्रतियोगिता करवाई जाती है। इसके लिए जुलाई-अगस्त में अच्छी फसल तैयार करने वाले इच्छुक किसानों से आवेदन पत्र मांगे जाते हैं। प्राप्त आवेदनों को गन्ना आयुक्त, लखनऊ के कार्यालय को भेज दिया जाता है। गन्ना आयुक्त द्वारा इसके लिए टीम गठित की जाती है। इस टीम में जिले से बाहर के लोग रहते हैं। ये टीम जिले में आकर आवेदन करने वाले किसान के खेत में रेंडम विधि से गन्ने की कटाई करवाती है। उसके आधार पर गन्ना उत्पादन की रिपोर्ट लखनऊ भेजी जाती है। इसके बाद वहां पर परिणाम तैयार किए जाते हैं। सर्वाधिक गन्ना उत्पादन करने वाले किसानों का चयन कर उन्हें पुरस्कृत किया जाता है। उनके गन्ना कटाई परिणामों के आधार पर उन्हें विजेता घोषित किया जाता है। उन्होंने बताया कि गन्ना प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के चीनी मिल क्षेत्रों में गन्ने की प्रति हेक्टेयर उपज को अधिकाधिक बढ़ाने के लिए गन्ना किसानों में प्रतियोगी भावना का संचार कर उपज बढ़ाने की प्रतिस्पर्धा कायम करना है। उन्होंने बताया कि मुन्ना लाल को उनके परिश्रम का फल मिला है। इससे अन्य किसानों को भी प्रेरणा मिलेगी। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस