रामपुर। डू्ंगरपुर प्रकरण में फरार चल रहे नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन अजहर खां, रानू खां और फिरोज के खिलाफ अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी किए हैं। वारंट मिलते ही गंज कोतवाली पुलिस ने तीनों के घरों पर दबिश दी। हालांकि तीनों घर पर नहीं मिले।

सपा शासनकाल में पुलिस लाइन के पास स्थित डूंगरपुर बस्ती में आसरा कालोनी का निर्माण कराया गया था। तब सांसद आजम खां कैबिनेट मंत्री थे। आसरा कालोनी जहां बनाई गई, वहां पहले से कई लोगों के मकान बने हुए थे। इन मकानों को तोड़ दिया था। जिनके मकान तोड़े गए, उन लोगों ने गंज कोतवाली में मुकदमे दर्ज कराए थे। इन मुकदमों में कुछ सपा नेताओं समेत सांसद के समर्थकों को नामजद किया था। मुकदमों मेंं मारपीट, फायङ्क्षरग, लूटपाट, तोडफ़ोड़ और छेड़छाड़ के भी आरोप लगाए गए। इन मुकदमों में पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी शुरू कर दी है। पिछले माह पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इनमें सांसद के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खां शानू की भी गिरफ्तारी की गई थी। गंज कोतवाल रामवीर ङ्क्षसह यादव ने बताया कि डूंगरपुर प्रकरण में 10 मुकदमे दर्ज हैं। इन मुकदमों में पहले जो लोग गिरफ्तार किए थे, उन्होंने पूछताछ में बताया था कि आजम खां के इशारे पर घटना को अंजाम दिया था। इस मुकदमे में फरार चल रहे आरोपितों के अदालत ने गैर जमानती वारंट जारी किए हैं। इनमें पूर्व चेयरमैन अजहर खां, रानू खां और फिरोज तोतला के वारंट मिले हैं। तीनों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस