मुरादाबाद, जेएनएन। हवा का गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) रविवार को फिर से लाल घेरे में पहुंच गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी ) के शाम छह बजकर 45 मिनट के बुलेटिन के मुताबिक मुरादाबाद का एक्यूआइ 352 रहा। यह बहुत खराब की श्रेणी में यानि लाल घेरे में है। रविवार को मुरादाबाद देश का सातवां सबसे प्रदूषित शहर दर्ज किया गया। शुक्रवार को शनिवार को मुरादाबाद देश के प्रदूषित दस शहरों से बाहर था।

निगम और प्रशासन के तमाम दावे बेअसर

महानगर में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए नगर निगम और स्थानीय प्रशासन तमाम दावे कर रहा है लेकिन, पिछले दस दिनों में हवा के बढ़ते प्रदूषण स्तर ने सारे दावों की पोल खोलकर रख दी है। सुप्रीम कोर्ट के सख्त निर्देश के बावजूद महानगर में जगह-जगह ई-कचरा और कूड़ा जलाना नहीं रुक पा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक ठंड बढऩे से हवा में मौजूद जहरीले कण आसमान की तरफ बढऩे के बजाय नीचली सतह पर ही बने रहते है। सर्दियों में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच जाता है।

ये रहे देश के सबसे प्रदूषित सात शहर-

शहर एक्यूआइ

नोएडा 413

गाजियाबाद 412

ग्रेटर नोएडा 399

दिल्ली 388

वल्लभगढ़ 353

गुरुग्राम 361

मुरादाबाद 352

पिछले एक सप्ताह ऐसे घटा-बढ़ा एक्यूआइ-

तारीख एक्यूआइ

एक दिसंबर 231

दो दिसंबर 278

तीन दिसंबर 331

चार दिसंबर 405

पांच दिसंबर 361

छह दिसंबर 250

सात दिसंबर 302

आठ दिसंबर 352

नोट- चार दिसंबर को मुरादाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा था। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस