जागरण संवाददाता, मुरादाबाद। Moradabad Mining Mafia : अवैध खनन के परिवहन सिंडीकेट पर पुलिस लगातार नकेल कस रही है। दूसरे राज्यों बैठकर बार्डर पर अवैध वसूली करने वाले सिंडीकेट माफिया पर पुलिस गैंगस्टर और एनएसए लगाने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

जेल जाने वालों में दो 50-50 हजार के इनामी

सोमवार को ठाकुरद्वारा पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। दोनों पर डीआइजी ने 50-50 हजार रुपये का पुरस्कार घोषित किया था। बीते 13 सितंबर की शाम को एसडीएम ठाकुरद्वारा परमानंद सिंह और खनन निरीक्षक अशोक कुमार काशीपुर-ठाकुरद्वारा रोड पर वाहनों की जांच कर रहे थे।

खनन माफिया ने एसडीएम को बनाया था बंधक

इसी दौरान अवैध खनन में लिप्त पांच डंपरों को पकड़ा गया था। खनन सिंडीकेट में शामिल आरोपितों ने एसडीएम और खनन निरीक्षक को बंधक बनाकर तीन डंपर छुड़ाकर ले गए थे। इस मामले में खनन निरीक्षक अशोक कुमार की तहरीर पर पांच नामजद और 150 अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

14 खनन माफिया को जेल भेज चुकी है पुलिस

ठाकुरद्वारा पुलिस अभी तक 14 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। जिसमें मुख्य आरोपित मुहम्मद तैय्यब भी शामिल है। इस मामले में डीआइजी शलभ माथुर ने अभी तक नौ आरोपितों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया जा चुका है। सोमवार को ठाकुरद्वारा थाना प्रभारी योगेंद्र कुमार सिंह की टीम ने शरीफनगर निवासी आरोपित लड्डन उर्फ शाने और शरबतनगर निवासी इरशाद को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

खनन सिंडीकेट के तार खोजने में जुटी पुलिस

खनन माफिया के सिंडीकेट के असली संचालकों का पुलिस पता लगाने में जुटी है। कुछ सफेदपोश लोगों के नाम सामने आए हैं, जिनकी लगातार तलाश की जा रही है। खनन सिंडीकेट का संचालक मुहम्मद तैय्यब के भाई जफर और नबी फरार चल रहे हैं। पुलिस दोनों पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर चुकी है।

पकड़े गए आरोपित तैय्यब ने बताया कि उसका काम कलेक्शन का होता था, पैसा कहां जाता था, इसकी जानकारी उसके पास नहीं है। एसपी देहात संदीप कुमार मीणा ने बताया कि जिन लोगों के नाम प्रकाश में आए हैं। जल्द ही अन्य आरोपितों को गिरफ्तार करके सिंडीकेट संचालकों का पर्दाफाश किया जाएगा।

खनन माफिया पर होगी गैंगस्टर की कार्रवाई

मुरादाबाद के डीआइजी शलभ माथुर का कहना है कि अवैध खनन के परिवहन में शामिल लोगों की लगातार गिरफ्तारी की जा रही है। आरोपितों के खिलाफ गैंगस्टर और एनएसए के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस की टीमें आरोपितों से पूछताछ करने के साथ ही सिंडीकेट में शामिल लोगों की पहचान करने के साथ ही गिरफ्तारी की गई है। निष्पक्ष और पारदर्शिता के साथ पुलिस की टीमें कार्य कर रही हैं।

Edited By: Samanvay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट