मुरादाबाद, जेएनएन। कोरोना कर्फ्यू की तारीख लगातार बढ़ रही है। इसकी वजह से प्रधानों को अभी अधिकार मिलने के आसार नहीं है। शपथ होने के बाद ही उन्हें अधिकार मिलने हैं। इसी तरह कोरोना कर्फ्यू की तारीखें बढ़ती रहीं तो जून में ही प्रधानों को उनके अधिकार मिल पाएंगे। इसके बाद ही ग्राम पंचायतों के विकास की रफ्तार बढ़ने की उम्मीद लगाई जा रही है। 

जिला पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य और क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के नतीजे आने के बाद अभी तक किसी की शपथ नहीं हुई है। ग्राम प्रधानों की शपथ जिला स्तरीय अधिकारियों को करानी है। इसके लिए हर ब्लाक में शपथ ग्रहण समाराेह होगा। ग्राम पंचायत सदस्यों की शपथ खंड विकास अधिकारी कराएंगे। अभी तक शपथ ग्रहण के लिए कोई तिथि घोषित नहीं हुई है। अब 24 मई तक कोरोना कर्फ्यू की घोषणा हो चुकी है। इसके बाद भी तारीख आगे बढ़ सकती है। कोरोना कर्फ्यू के बाद ग्राम प्रधानों की शपथ होगी और बस्ते मिलेंगे। मनरेगा का काम भी इसके बाद ही शुरू होगा। गांव में लोगों को रोजगार मिलने लगेगा। विकास की रफ्तार भी तेजी के साथ बढ़ेगी। क्षेत्र पंचायत सदस्यों से संपर्क करने वाले तो कई लोग पहुंच रहे हैं। लेकिन, चुनाव 15 जून के बाद होना है। तब तक सबकुछ प्रशासकों के हाथों में ही रहेगा। ब्लाक प्रमुखों के चुनाव के बाद बीडीसी की शपथ होगी। जिला पंचायत अध्यक्ष को जिलाधिकारी शपथ दिलाएंगे। लेकिन, जून में ही  चुनाव के बाद यह प्रक्रिया होनी है। अध्यक्ष जिला पंचायत सदस्यों को शपथ दिलाएंगी। जिला पंचायत राज अधिकारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि अभी नए ग्राम प्रधानों के शपथ के संबंध में कोई सूचना नहीं आई है। शपथ होने के बाद ही प्रधानों के खाते खुलेंगे। इसके बाद ग्राम पंचायतों में नए प्रधान के हाथ में ग्राम निधि की चाबी होगी। सभी ग्राम पंचायतों में विकास कार्य शुरू हो जाएंगे।