मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। मिशन 2025 तक टीबी रोग को खत्म करने का लक्ष्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तय किया है। इसको लेकर सरकार पूरी तरह गंभीर है। कोरोना काल में भी टीबी रोगियों की तलाश की गई। उन्हें उपचार की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई। इसको लेकर अब जियो टैगिंग का निर्देश क्षय रोग विभाग को मिला है। लक्ष्य ज्यादा का है और समय कम है। 10 जुलाई तक पूरा कवरेज करना है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने रणनीत बनानी शुरू कर दी है।

वर्ष 2019 में 10, 829 टीबी रोगी, 2020 में 7,355, वर्ष 2021 में 4,796 रोगियों की पुष्टि हुई है। कुल मिलाकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को 22,980 मरीजों के घर जाकर उनकी लोकेशन निक्षय पोर्टल पर दर्ज करनी होगी। इसके लिए कर्मचारी मरीज के दरवाजे पर दस्तक देगा। जिससे स्वास्थ्य विभाग का कोई भी कर्मचारी आसानी से लोकेशन की मदद से जगह पर पहुंच जाए। इसके लिए मरीज के घर की लोकेशन भी निक्षय पोर्टल पर भेजनी होगी। निजी अस्पतालों के मरीजों को भी इसमें शामिल किया जाएगा। जिससे मरीज की स्थिति भी क्लीयर होगी। कितना काम हुआ है आदि की जानकारी भी होगी। इसके लिए रणनीति बनाई जा रही है।

वर्ष,                      सरकारी अस्पताल रोगी,              निजी अस्पताल रोगी,

2019,                   4488,                                     6341,

2020,                   3189,                                     4155,

2021,                   2249,                                     2547,

प्रदेश मुख्यालय से टैगिंग के लिए पत्र मिला है। 10 जुलाई तक का समय दिया गया है। इसमें दिक्कत हो सकती है। प्रयास किया जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा मरीजों को कवर किया जा सके। उनकी लोकेशन निक्षय पोर्टल पर दर्ज की जाएगी।

डॉ. दिनेश कुमार प्रेमी, जिला क्षय रोग अधिकारी 

Edited By: Narendra Kumar