मुरादाबाद, जेएनएन। कोरोना संक्रमण की वजह से जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखों का चुनाव टल गया। अब 15 जून के बाद चुनाव होने की संभावना है। सभी दलों के नेताओं ने चुनाव की रणनीति बदल दी है।इसलिए अब देरी से हो रहा चुनाव नया गुल खिला सकता है। कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से नहीं बढ़ते तो अब तक जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी हो जाती। लेकिन, गांवों में भी तेजी से बढ़ते मामलों के कारण अब प्रदेश सरकार ने जिला पंचायत अध्यक्ष तथा ब्लाक प्रमुख का चुनाव फिलहाल टालने का फैसला किया है। अब सरकार की प्राथमिकता पर कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण पर नियंत्रण करना है। इसलिए चुनाव को लेकर कोई जल्दबाजी करने के मूड में नहीं है।

पंचायती राज विभाग को जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखों के चुनाव को 15 से 20 मई तक कराना था। लेकिन, अब चुनाव का कार्यक्रम 15 जून के बाद जारी हो सकता है। इसके पीछे वजह साफ है कि 17 मई तक लाकडाउन लगा है। अभी इसे और भी बढ़ाया जा सकता है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के बीच चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं। इसलिए चुनाव न होने तक जिला पंचायत और ब्लाक प्रमुखों की जिम्मेदारी अभी करीब एक महीना प्रशासकों के पास ही रहनी है। चुनाव में देरी होने से सियासी दलों के समीकरण भी बदल सकते हैं, क्योंकि संभावित प्रत्याशियों को काफी वक्त भी मिल रहा है। इसके चलते सभी दलों ने चुनाव की रणनीति भी बदल दी है। जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए सदस्यों को अपने पास बुलाकर प्रत्याशी सेवा करते रहते थे। ब्लाक प्रमुख के प्रत्याशी भी बीडीसी की खूब खातिरदारी करते रहे हैं। कई बार तो घूमने के लिए बाहर भेज दिया जाता था। लेकिन, कोरोना की वजह से कोई इस तरह का कदम उठाने की स्थिति में नहीं है। हालांकि सभी दलों के नेता अपने-अपने पक्ष में वोट जुटाने के लिए अभी से लगे हुए हैं। रिश्तेदारों की मदद ली जा रही है। मुख्य विकास अधिकारी आनंद वर्धन का कहना है कि कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने की वजह से सरकार ने चुनाव को टाल दिया है। तिथियां आने पर ही चुनाव कराया जाएगा। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप