मुरादाबाद, जेएनएन। : शुक्रवार दोपहर जिला अस्पताल में उपचार के दौरान महिला की मौत हो गई। महिला के शरीर में आक्सीजन का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था। महिला को आक्सीजन दी जा रही थी। इसके बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका। महिला की की मौत के बाद स्वजन भड़क उठे। उन्हें मेडिकल स्टाफ के साथ बदसलूकी की। इसके बाद मारपीट पर उतर आए। मारपीट होने पर स्टाफ वहां से भाग निकला। इसके बाद हंगामा कर रहे लोगों ने अस्पताल का सामान उठाकर फेंकना शुरू कर दिया और तोड़-फोड़ भी की। करीब डेढ़ घंटे तक हंगामा करने के बाद शव को लेकर चले गए।

मुरादाबाद के थाना डिलारी निवासी गीता वर्मा को कोरोना होने पर जिला अस्पताल के एलटू अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुरुवार रात महिला की हालात बिगड़ना शुरू हो गई। उसका आक्सीजन लेबल लगातार गिर रहा था। रात में आक्सीजन का स्तर घटकर 42 पर पहुंच गया। महिला को लगातार आक्सीजन दी जाती रही। हालात में थोड़ा सुधार भी आया। शुक्रवार दोपहर करीब 12 बजे महिला की हालत बिगड़ गई और थोड़ी ही देर में मौत हो गई। स्वजन को जानकारी होने पर वह भड़़क उठे। मेडिकल स्टाफ पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया और उनके साथ बदसलूकी की और मारपीट करने लगे।

इसके बाद स्टाफ वहां से भाग निकला। स्टाफ के भगाने के बाद तीमारदारों ने अंदर से बाहर तक खूब हंगामा किया। अस्प्ताल में तोड़-फोड़ शुरू कर दी। इसके बाद वो शव लेकर एंबुलेंस से निकल गए। इस दौरान खुद की सुरक्षा की मांग करते हुए पैरामेडिकल स्टाफ काम बंद कर इमरजेंसी गेट पर बाहर खड़े हो गए। इतना सब होने के बाद चंद कदम दूर थाना सिविल लाइंस की पुलिस मौके पर पहुंची। स्टाफ को समझा बुझाकर शांत कराया। पुलिस कर्मी तैनात किए जाने के बाद मेडिकल स्टाफ ने काम शुरू किया।