मुरादाबाद। जिले में लगातार कोरोना के मरीजों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। बुधवार को लखनऊ केजीएमयू से मिली रिपोर्ट में 11 लोग संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा एक 59 वर्षीय बुजुर्ग में निजी पैथलेब से कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

इसमें 21 वर्षीय समनपुर फतेहपुर कुंदरकी, भोजपुर का 34 वर्षीय, गलशहीद थाने का सिपाही 53 वर्षीय, 20 वर्षीय युवक, भोजपुर का 55 वर्षीय, घास मंडी का 49 वर्षीय, मुरादाबाद के केलसा रोड का 19 वर्षीय, डबल फाटक दस सराय का 45 वर्षीय, धर्मपुर गांव भोजपुर का 24 वर्षीय, टीएमयू अस्पताल का 45 वर्षीय, एमआइटी में क्वारंटाइन 32 वर्षीय युवक संक्रमित हुए हैं। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ दिनेश कुमार प्रेमी ने बताया कि निजी पैथलेब समेत बुधवार की सुबह 12 कोरोना संक्रमित मिले हैं। 

लगातार मौत से मची खलबली 

मुरादाबाद मंडल में लगातार हो रही मौतोंं से स्‍वास्‍थ्‍य महकमा अलर्ट हो गया है। स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को बेहद सावधानी बरतने की हिदायत दी गई है। इसके अलावा लोगों को स्‍वास्‍थ्‍य महकमे की ओर से जागरूक भी किया जा रहा है। 

अब एंबुलेंस नहीं पहुंचाएगी घर 

कोरोना संक्रमण से उबरने वाले लोगों को अब एंबुलेंस घर तक छोड़ने नहीं जाएगी। केवल गर्भवती और छोटे बच्चों के लिए ही यह सुविधा उपलब्‍ध कराई जाएगी। 108 एंबुलेंस कोरोना संक्रमित मरीज को लेने के लिए ही उनके घर पर पहुंचेगी। जिले में 108 नंबर की 30 एंबुलेंस हैं और 102 नंबर की 24 एंबुलेंस हैं। अभी तक सभी एंबुलेंस कोरोना संक्रमितों को लाने और उन्हें घर छोड़ने में लगी हुई थीं। नई व्यवस्था के तहत अब 108 एंबुलेंस सिर्फ कोरोना संक्रमित मरीज को लेकर अस्पताल तक पहुंचाएगी। कोरोना को मात देने वाले लोगों में गर्भवती और बच्चों को छोड़कर किसी को उनके घर तक नहीं पहुंचाया जाएगा। गर्भवती और बच्चे 102 एंबुलेंस से छोड़ने जाएंगे।

एंबुलेंस सेवा के नोडल एवं जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. दिनेश कुमार प्रेमी ने बताया कि अब पब्लिक ट्रांसपोर्ट सेवा शुरू हो चुकी है। निजी वाहनों की आवाजाही पर भी कोई रोक नहीं है। इसलिए सरकार ने छोड़ने की व्यवस्था को तत्काल प्रभाव से रोक दिया है।

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस