मुरादाबाद, जेएनएन। ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर रोकथाम व संक्रमित की निगरानी करने लिए संगिनी की टीम को लगाया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग 77 टीमें बनाने जा रहा है। टीम द्वारा समय से सूचना मिलने पर स्वास्थ्य व‍िभाग की टीम गांवों में जाकर उपचार आदि का काम करेगी।

कोरोना का संक्रमण ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंच गया है। दूर दराज गांव में चिकित्सा की सुविधा नहीं होने से गांव के लोग छोलाछाप के पास इलाज कराने पहुंच जाते हैं। इससे अन्य लोगों में कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। स्वास्थ्य विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में बुखार होने की सूचना तत्काल एकत्रित करने के लिए टीम बनाने जा रहा है। जिसकी सूचना पर ग्रामीण क्षेत्रों में टीम भेजकर इलाज करने के साथ दवा भी उपलब्ध कराई जाएगी। जो गंभीर रोगी नहीं होंगे, उसे होम क्वारंटाइन कर उनका इलाज किया जाएगा। गंभीर रोगी को अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में परिवार कल्याण कार्यक्रम के तहत प्रत्येक गांव में आशा कार्यकर्ता काम करती हैं। 20 आशा कार्यकर्ता पर एक संगिनी कार्यकर्ता होती है। वह आशा कार्यकर्ता की निगरानी करने के साथ परिवार कल्याण कार्यक्रम का संचालन करती है। स्वास्थ्य विभाग संगिनी कार्यकर्ता से कोरोना संक्रमण के मामले में सहयोग लेने जा रहा है। जिस गांव में स्वास्थ्य सेवा की कोई व्यवस्था नहीं है, वहां टीम का गठन किया जाएगा। जिले में 77 टीमें बनाई जाएंगी। संगिनी आशा कार्यकर्ता से ग्रामीण क्षेत्र में बुखार से पीड़ित रोगियों की जानकारी लेकर पीएचसी या सीएचसी तक पहुंचाएंगी। स्वास्थ्य विभाग की टीम उस गांव में जाकर जांच व इलाज करेगी। होम क्वारंटाइन वालों को दवाई उपलब्ध कराई जाएगी। संग‍िनी की टीम होम क्वारंटाइन वाले रोगियों की निगरानी रखेगी। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एमसी गर्ग ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसके जानकारी करने व इलाज से संबंधित सुविधा उपलब्ध कराने लिए जिले में 77 संगिनी टीम का गठन क‍िया जा रहा है। इसका नेतृत्व संगिनी कार्यकर्ता करेंगी।

 

Edited By: Narendra Kumar