मुरादाबाद, जेएनएन। कोरोना महामारी की दूसरी लहर में दवा का इस्तेमाल खूब हुआ। स्वास्थ्य विभाग ने पहली और दूसरी लहर में तकरीबन 11 लाख 49 हजार 140 टेबलेट अब तक खर्च कर दी। अभी स्टाक में भी दवाइयां उपलब्ध हैं। आइवरमैक्टिन, डॉक्सीसाइक्लिन और विटामिन-सी टेबलेट के लिए आइसीएमआर की कोई नई गाइड लाइन विभाग को मिलेगी तो कारपोरेशन को डिमांड भेजी जाएगी। बिना जरूरत कोई डिमांड नहीं होगी। 

कोरोना के शुरुआती लक्षण वाले मरीजों को स्वास्थ्य विभाग ने अपनी किट में आइवरमैक्टिन और डॉक्सीसाइक्लिन खूब खिलाई। अब आइसीएमआर की नई गाइडलाइन से तीन दवाओं के नाम हटने की वजह से स्वास्थ्य विभाग में संशय की स्थिति बनी हुई है। 2020 और 2021 की बात करें तो आइवरमैक्टिन और डॉक्सीसाइक्लिन, विटामिन-सी समेत आदि दवाओं का पैकेट कम लक्षण वाले मरीजों को दिया गया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियाें के मुताबिक आइसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक दवाओं की डिमांड भेजी जा रही है।

दवा का नाम,                   खपत,                   स्टॉक

आइवरमैक्टिन,                341290,               33900,

डॉक्सीसाइक्लिन,              367900,                500,

विटामिन-सी,                     43950,                 600,

अभी इन दवाओं का स्‍टाक है उपलब्ध 

एजिथ्रोमायसीन,                         39084,

पेरासीटामॉल,                             119700, 

विटामिन-बी काम्पलेक्स,              61000, 

विटामिन-डी थ्री,                          16600, 

जिंक,                                        22500,

रेमडेसिविर इंजेक्शन,                    380,

हमारे पास दवा की कोई कमी नहीं है। कोरोना संक्रमितों के घर दवा पहुंचवाई गई। फिलहाल हमारे पास कोई नया निर्देश नहीं मिला है। आइसीएमआर की गाइडलाइन के मुताबिक की दवा का वितरण किया जाएगा।

डॉ. एमसी गर्ग, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

 

Edited By: Narendra Kumar