मुरादाबाद, जेएनएन। तेल कंपनियों ने बिना पूर्व सूचना दिए ही फरवरी में तीसरी बार रसोई गैस की कीमत में 25 रुपये की वृद्धि कर दी है। पिछले 20 दिन में प्रति सिलेंडर सौ रुपये तक बढ़ोतरी हो चुकी है। गुरुवार सुबह दस बजे गैस बुक कराने वाले उपभोक्ताओं के मोबाइल पर गैस बुकिंग निरस्त होने की सूचना पहुंची। इसके पांच मिनट के बाद स्वत: गैस रीबुक करने की सूचना उपभोक्ताओं के पास पहुंच गई। 

रसोई गैस की कीमत 790.50 रुपये से बढ़कर 815.50 रुपये अंकित थी। इसके बाद उपभोक्ताओं को 25 रुपये प्रति सिलेंडर गैस की कीमत बढ़ने की जानकारी मिली। कुछ उपभोक्ताओं ने गैस एजेंसी संचालक से बात की, एजेंसी संचालकों ने बताया कि गैस की कीमत का निर्धारण कंपनी के मुख्यालय से किया जाता है। गैस की आपूर्ति करने के लिए बिल प्रिंट किया जाता है, तब कीमत बढ़ने की जानकारी मिलती है। एक फरवरी को रसोई गैस की कीमत 715.50 रुपये प्रति सिलेंडर थी। कंपनी ने चार फरवरी को एकाएक गैस की कीमत में 25 रुपये की वृद्धि कर दी। इससे गैस की कीमत बढ़कर 740.50 रुपये प्रति सिलेंडर हो गया। दस दिन बाद यानी 14 फरवरी को गैस की कीमत में 50 रुपये की बढ़ोतरी की गई, इससे एक सिलेंडर की कीमत बढ़कर 790.50 रुपये प्रति सिलेंडर हो गई। तीसरी बार 25 फरवरी के सुबह गैस की कीमत में 25 रुपये बढ़ा दिए गए। गुरुवार की सुबह गैस की कीमत बढ़कर 815.50 रुपये हो चुकी है। आशुतोष गैस एजेंसी के संचालक भूपाल सिंह ने बताया कि गैस की कीमत कंपनी के मुख्यालय से होती है। सुबह गैस की आपूर्ति करने के लिए हॉकर को रसीद दी जाती है। तब रसोई गैस की कीमत बढ़ने की जानकारी मिलती है। गुरुवार को गैस की कीमत में 25 रुपये बढ़ाए गए हैं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप