मुरादाबाद, जेएनएन। Sweater distribution in Moradabad। मुरादाबाद के परिषदीय स्कूलों में इस बार बंटे स्वेटरों की जांच धीरे-धीरे लंबित हाेती जा रही है। स्वेटरों की गुणवत्ता पर लगे आरोपों को एक महीने से ज्यादा हो चुका है। लेकिन, अभी तक कोई जांच अपने निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है। अब सब कुछ कानपुर लैब को भेजे गए सैंपलों पर निर्भर है। अधिकारियों की मानें तो सोमवार तक लैब से स्वेटरों की जांच रिपोर्ट मुरादाबाद मुख्यालय को मिल सकती है, जिसके बाद रिपोर्ट के आधार पर कार्यदायी संस्थाओं पर कार्रवाई तय होगी।

मुरादाबाद के परिषदीय स्कूलों के एक लाख 66 हजार छात्रों को स्वेटर वितरित करने के लिए इस बार तीन कार्यदायी संस्था को टेंडर दिए गए थे। इन स्वेटरों की गुणवत्ता की जांच के लिए प्रत्येक ब्लॉक में जांच कमेटी भी गठित की गई थी, जिसमें से एक कमेटी ने स्वेटरों की गुणवत्ता पर सवाल उठाकर दो फीसद की कटौती की सिफारिश भी की थी, जिसके बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी योगेंद्र कुमार ने तीनों संस्था द्वारा बांटे गए स्वेटरों के जांच सैंपल कानपुर लैब को भेजे थे। बेसिक शिक्षा अधिकारी योगेंद्र कुमार ने बताया कि सोमवार तक कानुपर लैब् से जांच रिपोर्ट आ सकती है।

टास्क फोर्स बनाकर मांगा गया है फीडबैक

इस बार स्वेटर वितरण में शासन द्वारा विशेष सख्ती बरती जा रही है। इसके लिए ब्लॉक स्तर पर कमेटी गठित करने के अलावा जिला स्तर के अधिकारियों की अध्यक्षता में टास्क फोर्स का भी गठन किया गया है। यह टास्क फोर्स अलग-अलग क्षेत्रों में छात्रों के अभिभावकों से स्वेटर के साइज व गुणवत्ता का फीडबैक भी ले रही है।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021