मुरादाबाद, जेएनएन। रेल प्रशासन ट्रेन दुर्घटना को रोकन के लिए मैनुअल सिस्टम के स्थान पर आधुनिक उपकरण का सहारा लेने जा रहा है। रेल प्रशासन ने पह‍िए में खराबी की जांच के लिए सभी प्रमुख स्टेशन पर कर्मचारी तैनात कर रखे हैं। कर्मचारी प्लेटफार्म से पहले यार्ड में बैठकर कोच के नीचे निगरानी करते हैं। पह‍िए में खराबी पाए जाने पर तकनीकी कर्मियों को सूचना देते हैं। मैनुअल जांच में कई बार खराबी के बारे में जानकारी नहीं मिल पाती है। पह‍िए में चिंगारी निकलने पर या अन्य खराबी के कारण ट्रेन हादसे हो जाते हैं।

रेलवे प्रशासन कर्मियों के स्थान पर पहिए की खराबी पकड़ने के लिए जगह जगह पर आधुनिक उपकरण हॉट एक्सल व हॉट बाक्स डिटेक्शन सिस्टम लगा रहा है। इस सिस्टम से होकर गुजरने वाली मालगाड़ी या ट्रेन के पहिए में अगर किसी प्रकार की खराबी होती है तो स‍िस्‍टम इसकी सूचना एसएमएस द्वारा कंट्रोल रूम को भेज देता है। सूचना मिलते ही मालगाड़ी या ट्रेन को बीच रास्ते में रोककर चलाया जाता है। खराबी को ठीककर ट्रेन को चलाया जाता है। रेलवे के इंजीनियर ने कांटेक्टलेस इंफ्रारेड टेक्नोलॉजी फ्रीक्वेंसी के आधार पर स‍िस्‍टम तैयार किया है। मंडल रेल प्रबंधक तरुण प्रकाश ने अमरोहा के पास निरीक्षण किया और इस सिस्टम को देखा। इस सिस्टम के लग जाने से मैनुअल काम करने वाले कर्मियों का पद समाप्त कर दिया जाएगा। प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक रेखा शर्मा ने बताया कि पह‍िए की खराबी को पकड़ने वाले उपकरण लगाए जाने से ट्रेन दुर्घटना में कमी आएगी। धीरे-धीरे सभी प्रमुख स्टेशन के यार्ड में ये स‍िस्‍टम लगाए जाएंगे। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021