मुरादाबाद, प्रदीप चौरसिया। Indian Railway Tourism : रेलवे पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए फिर से रियायती टिकट देना शुरू कर दिया है।पर्यटन को जाने वाले यात्रियों को दूरी के आधार पर किराए में छूट मिलेगी।अधिकतम 40 प्रतिशत तक किराया कम किया जा सकता है।रेलवे ने संशोधित नियम के साथ सरर्कुलर टूर टिकट की बिक्री शुरू कर दिया है।

कोरोना के बाद 22 मार्च 2020 से सभी प्रकार की रियायती टिकट की बिक्री बंद कर दिया था। ट्रेन संचालन शुरू होने के बाद दिव्यांग व गंभीर बीमारी के रोगियों के लिए रियायती टिकट उपलब्ध करा रहा था। सरकार ने कोरोना के बाद पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। आइआरसीटीसी द्वारा पर्यटन स्पेशल ट्रेन चलाया जा रहा है। इसके बाद अप्रैल से पर्यटन स्थल के लिए यात्रियों की चलना शुरू हो गया। लेकिन उम्मीद के अनुसार यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ी।

पर्यटन सीजन में मुरादाबाद रेल मंडल में कोरोना के पहले एक माह में 60 लाख यात्री ट्रेन से सफर करते थे, लेकिन इस साल के सीजन में यात्रियों की संख्या 40 लाख से कम रही है।रेलवे ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरर्कुलर टूर टिकट की बिक्री एक जुलाई से बिक्री शुरू कर दिया है। इस बार नियम को संशोधित किया गया है। मैनुअल के स्थान पर कंप्यूराइटर सरर्कुलर टूर टिकट जारी किया जाएगा। प्रत्येक स्टेशन पर यह टिकट रियायती टिकट आरक्षण काउंटर पर ही बनाया जाएगा।

इसके लिए अलग से कोड जारी किया है। नये नियम के अनुसार जितने अधिक दूरी होगी, रेलवे उतना कम किराया लेगा।अधिकतम किराया में 40 फीसद तक कम लिया जाएगा। सरर्कुलर टूर टिकट न्यूनतम एक हजार किलो मीटर का होना चाहिए, अधिकतम सात स्थानों पर यात्री ठहराव कर सकते हैं।सरर्कुलर टूर टिकट बनाने के बाद ट्रेनों में आरक्षण करने के समय यात्रियों को आरक्षण शुल्क व सुपर फास्ट शुरू देना होगा।यात्री जिस रास्ते से यात्रा शुरू करेंगे, उस रास्ते से वापस नहीं लौट पाएंगे, उसके दूसरे मार्ग से लौटना पड़ेगा।

रेलवे का मकसद है कि यात्री अधिक से अधिक पर्यटन व तीर्थ स्थान जा सकते हैं। इसकी जानकारी नहीं होने से यात्री सरर्कुलर टूर टिकट लेने नहीं पहुंच रहे हैं।वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि सरर्कुलर टूर टिकट मिलना शुरू हो गया है। कोई भी व्यक्ति आरक्षण काउंटर से जाकर सरकुलर टूर टिकट ले सकते हैं। 

Edited By: Ravi Mishra