मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। चुनाव लड़ने के लिए नाबालिग का बालिग दिखाना, सीट सुरक्षित हो जाने पर अनुसूचित जाति की महिला से शादी करना, इस प्रकार के मामले तो अक्‍सर सामने आते रहते हैं। लेकिन, मुरादाबाद में प्रधान बनने के लिए दस्‍तावेजों में धोखाधड़ी करने का एक बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक युवती ने नाबालिग होते हुए न सिर्फ दस्‍तावेजों में छेड़छाड़ करके खुद को बालिग घोषित कर दिया, बल्कि आधार कार्ड व अन्‍य दस्‍तावेजों में पिता को अपना पति दिखा दिया। फर्जी दस्‍तावेजों के सहारे वह चुनाव लड़ गई और जीत भी गई। बाद में गांव की ही एक महिला ने एसडीएम कोर्ट में याचिका डालकर मामले की शिकायत की। जब एसडीएम ने जांच कराई तो शिकायत सही मिली। अब आरोपित महिला प्रधान को पद से हटा दिया गया है। साथ ही उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं।

यह मामला विकासखंड भगतपुर टांडा क्षेत्र के ग्राम पंचायत बुढ़ानपुर का है। गांव निवासी आमना पत्नी रफीक  ने एसडीम कोर्ट में याचिका डालकर बुढ़ानपुर की निर्वाचित प्रधान कुमारी तरुन पुत्री पप्‍पू पर आरोप लगाया था कि उसने कूट रचित दस्तावेज तैयार कराकर नाबालिग से खुद को बालिग घोषित कर दिया। साथ ही अपने पिता को आधार कार्ड व अन्य फर्जी दस्तावेजों में पति दर्शाकर ग्राम प्रधान बन गई। एसडीम कोर्ट ने याचिका को स्वीकार कर जब इस मामले की सुनवाई की तो मामला जांच में सही पाया गया। इस पर एसडीएम प्रशांत तिवारी ने प्रधान को अयोग्‍य घोषित करते हुए पद से हटा दिया और प्रधान पद रिक्‍त घोषित कर दिया। 

Edited By: Vivek Bajpai