अमरोहा, जेएनएन। फर्जी दस्तावेज तैयार कर जमानत कराने वाले गिरोह के फरार चल रहे तीन सदस्यों को नगर कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इनमें दस्तावेजों में संशोधन करने वाला साइबर कैफे संचालक भी शामिल है। पुलिस ने उसके कब्जे से तीन कंप्यूटर, ङ्क्षप्रटर, आधार और पैनकार्ड बरामद किए हैं।

एसडीएम सदर के सामने दो जमानतियों के प्रमाण पत्र तस्दीक होने आए तो जांच में फर्जी पाए गए

शनिवार को एसडीएम सदर विवेक यादव के सामने दो जमानतियों के प्रमाण पत्र तस्दीक होने के लिए आए। इनमें नौगांवा सादात के ग्राम दाऊद सराय निवासी सुरेंद्र ङ्क्षसह और गंगा देवी के दस्तावेज भी शामिल थे। जांच में दस्तावेज फर्जी पाए गए। लिहाजा एसडीएम ने पुलिस बुलाकर संजीव सैनी निवासी मीरपुर थाना मझोला मुरादाबाद और रामकिशोर रस्तोगी निवासी सी-ब्लाक गोङ्क्षवद नगर मुरादाबाद का गिरफ्तार करा दिया।

यह लोग फर्जी दस्तावेज तैयार कर जेल में बंद अपराधियों की जमानत कराते थे

पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो गिरोह का खुलासा हुआ। यह लोग फर्जी दस्तावेज तैयार कर जेल में बंद अपराधियों की जमानत कराते थे। रविवार को कोतवाली पुलिस ने संजीव सैनी, रामकिशोर और चन्दौसी के तारापुर निवासी त्रिवेणी उर्फ प्रेमवती को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पूछताछ के दौरान अन्य कई लोगों के गिरोह में शामिल होने का पर्दाफाश हुआ था। तभी से पुलिस आरोपितों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही थी।

साइबर कैफे संचालक करता था आधार कार्ड और अन्य दस्तावेजों में संशोधन

पुलिस ने इस गैंग के तीन सदस्यों को और गिरफ्तार कर लिया। इस बारे में एसएसआइ सुरेश गौतम ने बताया गिरफ्तार आरोपितों में पप्पू सैनी निवासी रामतलैया जनपद मुरादाबाद, सोनू लोधी उर्फ सौरभ निवासी सैफपुर तल्ला व इस्माइल निवासी मुहल्ला अहाता बिलारी शामिल हैं। बताया सोनू लोधी साइबर कैफे चलाता है जो आधार कार्ड और अन्य दस्तावेजों में संशोधन करने का काम करता था। उसने ही सुरेंद्र और गंगा देवी के आधार कार्ड को संशोधित कर आरोपितों के नाम दर्ज किए थे। सोनू लोधी के कब्जे से तीन कंप्यूटर सिस्टम, 32 आधार कार्ड और 12 पैनकार्ड बरामद हुए हैं। इन सभी को जेल भेज दिया गया है।  

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस