मुरादाबाद, जेएनएन। बिलारी में सिपाही ने अपने दो साथियों की मदद से अवैध संबंधों में आड़े आ रहे प्रेमिका के पति की हत्या कर दी। फिर शव को तीस फीट गहरे कुएं में दबा दिया। कॉल डिटेल की मदद से अमरोहा के रजबपुर थाने की पुलिस ने सिपाही और उसके साथियों को गिरफ्तार करके घटना का पर्दाफाश किया है। साथ ही बिलारी पुलिस की मदद से अमरपुरकाशी गांव के पास कुएं से शव निकालकर पोस्टमार्टम कराया। शव की पहचान नरेंद्र कुमार (35) पुत्र समरपाल ग्राम शकरपुर थाना रजबपुर के रूप में हुई है। शिनाख्त नरेंद्र की पहली पत्नी बालेश देवी ने की। पुलिस के मुताबिक बालेश देवी और उसके बच्चे गांव में ही रहते हैं। 12 साल पहले नरेंद्र के गजरौला के होटल में रहने के दौरान रूबी अग्रवाल से संबंध हो गए थे और उन्होंने शादी कर ली थी। चार साल पहले दोनों मुरादाबाद की बैंक कालोनी में रहने के लिए आए। मकान उस समय कटघर थाने में तैनात योगेश कुमार का है, जो मूल रूप से सहारनपुर का रहने वाला है और उसका परिवार भी वहीं रहता था। इस दौरान रूबी के सिपाही से प्रेम संबंध हो गए। जब इसकी जानकारी नरेंद्र को हुई तो सिपाही योगेश से उसका विवाद होने लगा। करीब ढाई साल पहले सिपाही की बिलारी कोतवाली की अमरपुरकाशी पुलिस चौकी में तैनाती हुई। पिछले डेढ़ माह से वह न्यायालय सुरक्षा में लगा हुआ है। पुलिस के मुताबिक सिपाही ने अमरपुरकाशी के रहने वाले विशेष सैनी और वीरपाल सैनी के साथ मिलकर नरेंद्र की हत्या की प्लानिंग कर ली। 27 सितंबर को रूबी ने नरेंद्र को जोया में बुलाया। यहां पहले से ही सिपाही और उसके साथी कार लिए खड़े थे। उन्होंने नरेंद्र को कार में बैठाकर उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी। देर रात शव को अमरपुरकाशी के एक कुएं में डालकर मिट्टïी से दबा दिया। 

पहली पत्नी की तहरीर से खुला मामला

कई दिन से बात नहीं हो पाने के कारण नरेंद्र की पहली पत्नी बालेश देवी उसे लगातार फोन कर रही थी। फोन बंद आने पर वह रजबपुर थाने पहुंच गई। प्रभारी निरीक्षक रजबपुर सतेंद्र कुमार ने बताया कि बालेश देवी की तहरीर पर मुकदमा लिखकर तफ्तीश शुरू की तो सारी कहानी खुलती चली गई। 

 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप