मुरादाबाद, जेएनएन। नारी उत्थान केंद्र में काउंसिलिंग के दौरान दो बीवियों का विवाद निपट गया। समझौते की शर्तों के मुताबिक कंपाउडर पति को अब दो-दो दिन बीवियों के साथ रहना होगा। अन्य दिनों के लिए वह आजाद है। अपनी इच्छा से वह किसी भी बीवी के पास भी रह सकता है। 

महिला ने एसपी को दिया शिकायती पत्र

थाना भोजपुर के मंसूरपुर गांव निवासी महिला ने एसएसपी को शिकायती पत्र दिया, जिसमें महिला ने बताया कि उसकी शादी भोजपुर के अटरिया गांव में हुई थी। उसका पति मुरादाबाद में एक बड़े चिकित्सक के यहां कंपाउडर है। उसके पास पांच बच्चे हैैं। इसके बावजूद पति दहेज के लिए परेशान कर रहा है। ससुराल वालों ने कार और एक लाख रुपये की मांग को लेकर उसे मारपीट करके घर से निकाल दिया। इतना ही नहीं चार महीने पहले उसके पति ने दूसरी शादी कर ली है। वह उसे साथ रखने को तैयार नहीं है। पांच बच्चों को लेकर मैैं कहां जाऊं। एसएसपी अमित पाठक ने मामले को गंभीरता से लेकर काउंसिलिंग के लिए नारी उत्थान केंद्र भेज दिया। काउंसिलिंग में कंपाउडर ने स्वीकार किया कि उसने दूसरी शादी कर ली है। बोला, पहली पत्नी को भी साथ रखने को तैयार है। काउंसलर के समझाने पर पहली पत्नी भी सौतन को स्वीकार करने को राजी हो गई। नारी उत्थान केंद्र की प्रभारी संध्या रावत ने बताया कि पहली पत्नी शर्तों के साथ पति के साथ रहने को राजी हो गई है। पति दो-दो दिन पत्नियों के साथ रहेगा।  

इन शर्तों के साथ हुआ समझौता

सप्ताह में दो दिन कंपाउडर पहली के पास रहेगा और दो दिन दूसरी बीवी के पास रहेगा। पहली पत्नी गांव के मकान में अपने बच्चों के साथ रहेगी। उसकी रसोई भी अलग होगी। पति पहली पत्नी के खर्चे के लिए आठ हजार रुपये महीना देगा। कोई भी पत्नी पैसा अपनी मां को नहीं देगी। पहली पत्नी के आने पर दूसरी पत्नी लड़ाई नहीं करेगी। दोनों एक दूसरे का सहयोग करेंगी। दोनों बीवियां अपनी-अपनी बातें किसी और के साथ शेयर नहीं करेंगी। छह मार्च को कंपाउडर पहली पत्नी को अपने घर बुलाकर ले जाएगा। 17 मार्च को फिर से तीनों को नारी उत्थान केंद्र आकर बताना होगा कि कैसे रह रहे हैैं।

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस