मुरादाबाद (जेएनएन)।

पाकबड़ा में झूठी आन की खातिर दो दिन पहले भाई ने रिश्तेदार के साथ मिलकर बहन के प्रेमी की गर्दन रेत कर हत्या कर दी और फिर घर आकर पिता और मां की सहायता से बहन को गला दबाकर मार डाला।पुलिस ने घटना का पर्दाफाश करते हुए युवती के माता पिता को गिरफ़तार कर लिया है।

कॉल कर बुलाया प्रेमी को 

बरेली के सिरौली थाने के प्यास गांव निवासी 22 वर्षीय फाजिल मुर्गों का कारोबार करता था। शुक्रवार को मुर्गे की खरीदारी करने के लिए दो लाख 10 हजार रुपये लेकर मुरादाबाद आया था। मुरादाबाद पहुंचने पर फाजिल को प्रेमिका राबिया ने कॉल कर कटघर के करूला स्थित गली नंबर चार की हॉजी मार्केट में बुलाया। वहीं राबिया के भाई दिलशाद और रिश्तेदार उवैस ने फाजिल को दबोच लिया। उसे शादी कराने का झांसा दिया गया। साथ ही राबिया के पिता बाबू को मनाने के लिए एक ताबीज बनवाने की बात कही। इसके बाद फाजिल को लेकर दिलशाद और रिश्तेदार उवैस बाइक पर निकल गए।

हत्या के बाद जेब से निकाले दो लाख 10 हजार रुपये 

पाकबड़ा के सब्जीपुर में चाकू से उसकी गर्दन रेत दी। साथ ही उसकी जेब से रुपये भी निकाल लिए। घर पर पहुंचकर उवैस ने बाबू को बताया कि फाजिल का काम तमाम कर दिया है। उसके बाद सभी ने घर में राबिया की भी गला दबाकर हत्या कर दी।

राबिया की मौत को बताया बीमारी 

आसपास के लोगों को बताया कि राबिया की बीमारी से मौत हो गई। उसके शव को रात में ही करूला के कब्रिस्तान में दफन कर दिया। रविवार को फाजिल के शव की पहचान होने के बाद परिवार ने पुलिस को पूरे घटनाक्रम से अवगत करा दिया। पुलिस ने करूला में दबिश डालकर राबिया के पिता और उसकी मां को हिरासत में ले लिया है। दिलशाद और आरोपित रिश्तेदार उवैस हैदराबाद भाग गए हैं। पिता कदीर की तरफ से हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया है। इंस्पेक्टर गजेंद्र त्यागी का कहना है कि राबिया का शव भी कब्र से निकाला जाएगा।

मोहब्बत का खौफनाक अंत

प्रेम कहानी की शुरुआत छह साल पहले हुई थी। उस समय स्कूल की छुट्टी के दिनों में राबिया बरेली के प्यास गांव में अपने नाना मुकद्दर के घर जाती थी। घर की छत पर घूमते हुए राबिया ने फाजिल को देखा। छत से शुरू हुई इस प्रेम कहानी में बहुत मोड़ आए, राबिया की शादी तक हो गई पर वह फाजिल को भूल न सकी। राबिया एक बेटी की मां बन गई, उसके बाद पति सऊदी अरब गया तो खुलेआम ही फाजिल और राबिया मिलने लगे। दोनों के मिलने पर राबिया के परिवार को समाज के तानों का सामना करना पड़ता था।

समझाने पर भी नहीं मानी राबिया

परिवार के लोगों ने कई बार राबिया को रोकने की कोशिश की, उसके बाद भी वह नहीं मानी। आखिर परिवार के लोगों ने दोनों की हत्या कर इस प्रेम कहानी को हमेशा के लिए खत्म कर दिया। राबिया का शव कब्रिस्तान में दफना दिया गया। मोहल्ले के लोगों को बताया कि बीमारी के चलते राबिया की मौत हो गई। इस तरह से इस प्रेम कहानी का दर्दनाक अंत हो गया।

राबिया ने आरिफ से मांगा था तलाक

आरिफ के सऊदी अरब जाने के बाद राबिया ने फोन पर तलाक मांगा था, लेकिन आरिफ ने इन्कार कर दिया था। यही कारण है कि राबिया शादी के बाद से ही आरिफ के साथ रहना नहीं चाहती थी। उसने परिवार के लोगों को कई बार कहा कि फाजिल से निकाह करना चाहती है। यहां तक कह दिया कि फाजिल को बिना निकाह ही अपना पति मान चुकी है।

कब तक झेलते जिल्लत की जिंदगी

राबिया के पिता बाबू खां और मां ने पुलिस हिरासत में बताया कि बेटी की शादी कर दी। उसके बाद भी परिवार और रिश्तेदारी में शर्मसार करा रही थी। उस जिल्लत भी जिंदगी से अच्छा है कि जेल के अंदर ही अपनी जिंदगी बिता लेंगे। उनका कहना है कि हमें दोनों की हत्या का कोई पछतावा नहीं है।  

Posted By: Rashid

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप