रामपुर, जेएनएन। सांसद आजम खां और पूर्व सीओ सिटी आले हसन खां के करीबी रहे हेड कांस्टेबल धर्मेंद्र कुमार को पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया है। पुलिस ने यतीमखाना प्रकरण में लूटे गए जेवर और नकदी भी बरामद की है।

साल भर पहले शहर कोतवाली में मुहल्ला घोसियान यतीमखाना बस्ती के लोगों ने 11 मुकदमे दर्ज कराए थे। उनका आरोप था कि सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खां के इशारे पर पुलिस ने उनके मकानों को जबरन खाली कराया था। मकान तोड़ दिए थे। रुपये, जेवर, भैंस, बकरी आदि भी लूट ले गए थे। इस जमीन पर बाद में आजम खां ने रामपुर पब्लिक स्कूल बनावा दिया था। इन मुकदमों में सांसद आजम खां समेत अन्य सपाइयों और पुलिस कर्मियों को नामजद किया था। नामजद पुलिस कर्मियों में हेड कांस्टेबल का नाम भी था। पुलिस को काफी समय से तलाश थी। काफी समय से शाहजहांपुर जिले में तैनाती है। मूल रूप से एटा निवासी हेड कंस्टेबल ने अदालत में आत्म समर्पण के लिए प्रार्थना पत्र भी दिया था। शुक्रवार को कचहरी के पास से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सिविल लाइंस थाने ले जाकर पूछताछ की। अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि आरोपित हेड कांस्टेबल की निशानदेही पर लूटे गए रुपये और जेवर भी बरामद हुए हैं। पुरानी करेंसी के हजार व पांच सौ के नोट बरामद हुए हैं,जो अब प्रचलन में नहीं हैं। आरोपित को जेल भेज दिया है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस