अमरोहा, जेएनएन।  क्रिकेटर मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां शुक्रवार को बाल कल्याण समिति में बयान दर्ज कराए। उन्होंने छह महीना पहले डिडौली पुलिस व अपने ससुरालियों पर जबरन घर से निकाल कर अस्पताल में रखने का आरोप लगाते हुए राष्ट्रीय बाल आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी।

समिति कर रही है जांच 

राष्ट्रीय बाल आयोग के आदेश पर इस मामले की जांच जिला बाल कल्याण समिति कर रही है। हालांकि इस मामले में चार दिन पहले क्रिकेटर शमी के परिजनों द्वारा अपना हलफनामा समिति के समक्ष दाखिल किया जा चुका है। शुक्रवार को विकास भवन स्थित बाल कल्याण समिति में हसीन जहां बयान दर्ज कराने पहुंची थी। उन्होंने समिति के अध्यक्ष हरपाल ङ्क्षसह के समक्ष मौखिक बयान दर्ज कराए। जबकि सोमवार को लिखित में बयान देंगी। मीडिया से बातचीत मं उन्होंने कहा कि वह अपनी लड़ाई लड़ रही हैं तथा इसे जारी रखेंगी। मेरे साथ जितना बुरा होना था वह हो चुका लेकिन, वापस ससुराल में आकर ही रहेंगी। यूपी पुलिस पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाते कहा कि अगर पुलिस की गुंडागर्दी इसी तरह चली तो सब कुछ समाप्त हो जाएगा। इसलिए वह इसके खिलाफ आवाज उठा रही हैं। कहा कि अगर उनकी आवाज उठाने से 10 प्रतिशत भी पुलिस की गुंडागर्दी में कमी आएगी तो बेहतर होगा। परंतु मुझे पुलिस द्वारा बार-बार धमकाया जाता है। 

यह है पूरा मामला 

छह माह पहले क्रिकेटर मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां अपनी बेटी आएरा शमी के साथ सहसपुर अलीनगर स्थित ससुराल आई थीं। विवाद के चलते ससुरालियों की शिकायत पर डिडौली पुलिस हसीन जहां व उनकी पत्नी को ससुराल से लेकर जिला अस्पताल पहुंची थी। उन्हें घर में नहीं जाने दिया था। रातभर हसीन जहां को जिला अस्पताल में रखने के बाद अगले दिन शांतिभंग की धाराओं में कार्रवाई की थी। इसकी शिकायत हसीन जहां ने राष्ट्रीय बाल आयोग में की थी। आरोप था कि मेरे साथ मेरी मासूम बेटी का उत्पीडऩ किया गया था। 

हसीन जहां ने राष्ट्रीय बाल आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी। उसी परिपेक्ष्य में शुक्रवार को वह कार्यालय पहुंची थीं। हालांकि आज उन्होंने मौखिक बयान दर्ज कराएं हैं, लेकिन सोमवार को लिखित में बयान लिए जाएंगे। 

हरपाल ङ्क्षसह, अध्यक्ष बाल कल्याण समिति। 

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस