मुरादाबाद,जेएनएन। कोविड स्पेशल ट्रेन में बच्चों का हाफ टिकट तो होगा लेकिन, किराया फुल लिया जाएगा। रेलवे ने पहली जून से चलने वाली ट्रेन के नाम के साथ कोविड स्पेशल ट्रेन जोड़ दिया है। ट्रेन में केवल पांच साल तक के बच्चों को ही फ्री में यात्रा करने की अनुमति दी गई है। 

रेल प्रशासन ने पहली जून से ट्रेन संचालन शुरू करने के साथ-साथ नियमों में संशोधित किया है। ट्रेन के नाम के साथ कोविड स्पेशल जोड़ दिया है। उदाहरण के लिए 02230 लखनऊ मेल स्पेशल के स्थान पर अब लखनऊ मेल कोविड स्पेशल कर दिया गया है। इंटरनेट के माध्यम से ट्रेन संबंधित जानकारी लेने पर कोविड स्पेशल ट्रेन का नाम लिखा आएगा। स्टेशन पर लगे ऑटोमैटिक अनाउंसमेंट सिस्टम को भी अपडेट कर दिया है। इसके बाद कोविड स्पेशल ट्रेन के नाम से अनाउंसमेंट किया जा रहा है। 

स्पेशल ट्रेन में बिना बर्थ के यात्रियों को सवार होने पर रोक लगा दी है। ट्रेन में पांच साल के बच्चों को फ्री में सवार होने दिया जा रहा है। सफर करने वाली मां को हिदायत दी जाती है कि बच्चों को अपनी गोद में रखे। रेलवे के पुराने नियम में पांच साल से 12 साल के बच्चों को हाफ टिकट का प्रावधान है और बिना बर्थ के बच्चे हाफ टिकट पर परिवार के साथ सफर कर सकता है। यात्री के मांगने पर पूरा किराया लेकर बच्चों को बर्थ उपलब्ध कराता है। कोविड स्पेशल ट्रेन में इस नियम में बदलाव किया है। हाफ टिकट तो बनाता है और बिना यात्री के अनुमति के पूरा किराया लेकर बर्थ आवंटित कर देता है। यानी कि पांच साल से 12 साल के बच्चों को बिना बर्थ ट्रेन में सवार होने की अनुमति नहीं हैैं।  

यात्रियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए वेंडर को ट्रेन के अंदर जाने पर भी रोक लगा दी है। यात्री को स्टॉल पर जाकर पानी व डिब्बा बंद खाना लेना पड़ेगा। 

प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक रेखा ने बताया कि पहली जून से चलने वाली ट्रेनों के नियम को समय समय पर संशोधित किया जा रहा है। बिना बर्थ का किसी भी यात्री को ट्रेन के अंदर जाने की अनुमति नहीं हैैं। इसलिए 12 साल के कम बच्चों का हाफ टिकट होने के बाद पूरा किराया लेकर बर्थ आवंटित की जा रही है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस