मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Fraud in name of house : दिल्ली में आवास दिलाने के नाम पर पीएसी जवान के साथ उसके दो रिश्तेदारों ने ही धोखाधड़ी कर दी। जब पीड़ित जवान ने पैसे वापस मांगे तो आरोपित 23वीं वाहिनी पीएसी परिसर में पहुंचकर धमकाने लगे। इस मामले में डीआइजी के आदेश पर सिविल लाइंस थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की।

कांठ रोड स्थित पीएसी 23वीं वाहिनी में मेहंदी हसन हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात हैं। वह मूलरूप से बदायूं के उधैती थाना क्षेत्र के गांव सरह बरोलिया गांव के निवासी हैं। उन्होंने सिविल लाइंस थाने में तहरीर देकर बताया कि उनके साले नूर के दामाद मुहम्मद युनूस सैफी निवासी सिरौली जिला बरेली जमीन खरीदने-बेचने का काम करते हैं। यूनुस ने उन्हें दिल्ली में मकान दिलाने के नाम पर पांच लाख 85 हजार रुपये लिए थे। आरोपित ने पैसा लेने के बाद आवास अपने नाम पर करा लिया। इस बात की जानकारी होने के बाद पीड़ित हेड कांस्टेबल ने दामाद से रकम वापस देने के लिए कहा। आरोप है कि बीते तीन फरवरी 2021 को युनूस अपने साथी सलीम के साथ 23वीं वाहिनी पीएसी में स्थित उसके सरकारी आवास पर आया था। घर आने के बाद उसने परिवार के लोगों को गाली देते हुए जान से मारने की धमकी दी। पुलिस के द्वारा मुकदमा न लिखने पर पीड़ित ने डीआइजी शलभ माथुर से कार्रवाई की गुहार लगाई थी। डीआइजी ने सिविल लाइंस थाना पुलिस को मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए थे। सिविल लाइंस थाना प्रभारी सहंसरवीर सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपित मुहम्मद युनूस सैफी और सलीम के खिलाफ धोखाधड़ी व धमकी देने का मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें :-

गांधी जी ने अफ्रीका से लौटने के बाद तीन बार हरिद्वार तक की थी ट्रेन से यात्रा, जानें कब-कब की थी यात्रा

जितिन प्रसाद ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा, बोले- भाजपा एक व्यक्ति की नहीं कार्यकर्ताओं के बल पर चलने वाली पार्टी

योगी सरकार के रामपुर सांसद आजम खां की जौहर यूनिवर्सिटी की जमीन कब्जे में लेने के एक हफ्ते बाद विश्वविद्यालय में मना जश्न

वाह रे स्वास्थ्य विभाग, कोरोना की वैक्सीन लगाई नहीं और पोर्टल पर दर्शा दिया कि हो गया टीकाकरण

Edited By: Narendra Kumar