मुरादाबाद, जेएनएन। जिला समाज कल्याण अधिकारी सुनील कुमार सिंह की जांच में डिलारी ब्लाक के शुमालखेड़ा गांव के पूर्व प्रधान खुर्शीद अहमद और तत्कालीन सचिव अनिल कुमार भारती गबन के दोषी पाए गए हैं। जिला पंचायत राज अधिकारी राजेश कुमार सिंह ने पूर्व प्रधान और सचिव को पत्र लिखकर जवाब मांगा है।

डीपीआरओ ने पत्र में कहा है कि जिला ग्राम्य विकास अभिकरण के सहायक अभियंता और समाज कल्याण अधिकारी की संयुक्त जांच आख्या मिली है। जांच आख्या के आधार पर तशरीफ का शौचालय ट्रैक्टर लगने से क्षतिग्रस्त होना बताया जा रहा है। लेकिन, शौचालय निर्माण में किसी तरह की धनराशि लिए जाने की पुष्टि नहीं हुई है। जांच में यह बात भी सामने आई है कि मदरसे से अब्दुल हाजी और इल्यिास का घर 150 मीटर पर है। जबकि तकनीकि अधिकारी ने बिना सर्वे किए 55-55 मीटर के दो प्रांकलन तैयार किए हैं। ग्राम पंचायत को मदरसे से कार्य कराना चाहिए था। लेकिन, इल्यिास के घर से काम शुरू कराया गया। कार्य 46.5 मीटर की लंबाई तक हुआ है। इस प्रकार पूरा काम नहीं हो पाया। भुगतान पूरा हो गया है। कार्य स्थल माप पुस्तिका और प्रांकलन में भिन्नता पाई गई। इसलिए यह मामला गबन की श्रेणी में आता है। 31 मार्च तक साक्ष्य के साथ डीपीआरओ ने दोनों को बुलाया है।

 

Edited By: Narendra Kumar