मुरादाबाद (मोहन राव)। किसानों का रुझान अब आम को छोड़ अमरूद और केले की खेती की तरफ अधिक बढ़ रहा है। कारण है कि एक हेक्टेयर में आम के सौ पौधे लग रहे हैं वहीं इतनी ही जमीन में अमरूद और केले के 150 से अधिक पौधे लग जाते हैं। केले की खेती करने वालों को सालभर में ही लागत और मुनाफे का पता चल जाता है जबकि आम का बगीचा लगाने वालों को चार से पांच साल तक इंतजार करना पड़ता है। अमरूद की बागवानी करने वालों को भी अधिकतम तीन साल में लागत मिलने लगती है। अमरूद की फसल किसानों को वर्ष में दो बार मिल जाती है। कम जमीन में भी अमरूद और केले की बागवानी लगाई जा सकती है जबकि आम में ऐसा नहीं है।

अमरूद की कई प्रजातियां मंहगी बिकती हैं

उद्यान अधिकारी सुनील कुमार ने बताया कि किसान आम को छोड़कर अब अमरूद और केले की बागवानी को महत्व दे रहे हैं। अमरूद की कई प्रजातियां ऐसी हैं जो महंगी बिकती हैं। अच्छा मुनाफा होने के कारण अमरूद और केले की बागवानी का लक्ष्य भी बढ़ा है।

 

Posted By: Ravi Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस