मुरादाबाद, जेएनएन। जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए सरगर्मियां तेज होने लगी हैं। सभी प्रत्याशी अपने लिए वोट मांग रहे हैं। लेकिन, कोरोना संक्रमण की वजह से नामांकन के दौरान किसी भी प्रकार का शोरगुल नहीं हो रहा है। 26 जून को नामांकन होना है। मतदान हुआ तो  उसी दिन परिणाम की घोषणा कर दी जाएगी।

प्रशासन के अधिकारियों ने कह दिया है कि जीत के बाद कोई विजयी जुलूस नहीं निकलेगा। नामांकन के दौरान भाजपा प्रत्याशी डा. शैफाली सिंह के साथ पार्टी के विधायक और संगठन से जुड़े नेता मौजूद रहेंगे। चुनाव के दिन तो भाजपा के बड़े सभी नेताओं और विधायकों को कलक्ट्रेट में रहना है। भाजपा नेता अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी अमरीन जहां भी सादगी के साथ ही पर्चा दाखिल करेंगी। उनके साथ भी पार्टी और संगठन से जुड़े नेता रहेंगे। सपा को अपनों पर ही भरोसा नहीं है। बसपा के प्रत्याशी को लेकर ही अभी तक फैसला नहीं हो सका है। हालांकि जिलाध्यक्ष वेदप्रकाश का कहना है कि उनकी प्रत्याशी मंजू चौधरी होंगी। लेकिन, अभी तक मंजू चौधरी की तरफ से कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं जबकि चुनाव बिल्कुल नजदीक हैं।

भाकियू असली के नेता गाजीपुर बा़र्डर पहुंचे, आंदोलन तेज :  भारतीय किसान यूनियन असली ने गाजीपुर बार्डर पर पहुंचकर एक बार फिर से कृषि सुधार कानून के विरोध में आंदोलन और तेज कर दिया है। इस कानून के विरोध में सरकार से आर-पार की लड़ाई लड़ने का एलान किया है।  भाकियू असली का गाजीपुर बार्डर पर कृषि कानून के विरोध में चल रहे आंदोलन को और तेज करने के लिए एक महापंचायत प्रस्तावित थी। जिसमें भाकियू असली के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी हरपाल सिंह की अगुआई में जनपद मुरादाबाद से भी भारी संख्या में किसान गाजीपुर बार्डर पहुंचे और उन्होंने अपनी ताकत का अहसास कराया है। किसान तीनों कृषि सुधार कानून वापस कराने पर अड़े हुए हैं। अब दिन प्रतिदिन यहां पर किसानों की संख्या बढ़ रही है। भाकियू नेताओं का कहना है कि जब तक उनकी मांगे वापस नहीं हो जाती तब तक धरना जारी रहेगा। भाकियू असली के जिला अध्यक्ष समरपाल सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों का एक जत्था गाजीपुर बार्डर पहुंचा है। 

 

Edited By: Narendra Kumar