जागरण संवाददाता, मुरादाबाद। CM Yogi Adityanath Plan : उत्तर प्रदेश सरकार अब सूखा पड़ने का पहले ही पता लगाने की व्यवस्था करने जा रही है। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नई योजना बनाई है। इसके तहत हर ब्लाक, नगर पालिका और नगर पंचायत में स्वचलित वर्षा मापी यंत्र लगाए जाएंगे।

बाढ़ के खतरे का पता लगाना होगा आसान

इसके अलावा मौसम का मिजाज पता करने के लिए भी यंत्र भी स्थापित होंगे। इसके चलते अधिकारियों को वर्षा और मौसम के बारे में पल-पल की जानकारी मिलती रहेगी। ऐसे में बाढ़ के खतरे का भी पता लगाना आसान होगा। वर्षा नहीं होने से सूखे का पता लगाकर सरकार इसके लिए व्यवस्थाएं भी पहले से कर लेगी।

मुरादाबाद में मौसम की जानकारी करना मुश्किल

मुरादाबाद जिले में राजकीय इंटर कालेज में वर्षा माफी यंत्र स्थापित है। यहीं से वर्षा और मौसम की जानकारी मिलती है। देहात में वर्षा कितनी वर्षा हुई, मौसम का मिजाज कैसा रहा। इसका पता लगाना मुश्किल होता है। ठाकुरद्वारा और उसके आसपास का इलाका पहाड़ी क्षेत्र के नजदीक है।

ब्लॉकवार अलग-अलग रहता है मौसम

इसलिए जिला मुख्यालय और उत्तराखंड के मौसम में काफी अंतर रहता है। वर्षा का हाल भी यही है। इस साल की ही देख लीजिए। कई बार ऐसा हुआ कि दिल्ली रोड पर वर्षा हो गयी। लेकिन, कांठ रोड पर एक बूंद भी वर्षा नहीं हुई। देहात क्षेत्र में भी अक्सर यह होता रहता है।

किस क्षेत्र में कितनी बारिश का पता लगाना मुश्किल

ऐसे में यह पता लगाना मुश्किल होता है कि किस क्षेत्र में कितनी वर्षा हुई है। आपदा विशेषज्ञ पंकज कुमार मिश्र ने बताया कि शासन ने अब जिले के सभी आठों ब्लाकों और नगर पालिका और नगर पंचायतों में स्वचलित वर्षा माफी यंत्र लगाने का निर्णय लिया है। मौसम का पता लगाने के लिए भी स्वचलित यंत्र उनके साथ ही लगाए जाने हैं।

सभी यंत्रों को जिला मुख्यालय से जोड़ा जाएगा

इन दोनों यंत्रों को जिला मुख्यालय से जोड़ दिया जाएगा।इससे यह पता लगता रहेगा कि किस क्षेत्र में कितनी वर्षा हुई है। इसी तरह मौसम के बारे में भी पता लगता रहेगा। ऐसे में लोगों को अलर्ट करना आसान होगा। जिले की उमरी कला और ढकिया नगर पंचायत से दोनों यंत्र लगाने के लिए प्रस्ताव आ चुके हैं। प्रदेश भर में यह व्यवस्था की जा रही है। नए साल में हर ब्लाक और निकाय में यंत्र लगा दिए जाएंगे।

Edited By: Samanvay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट