मुरादाबाद : बहन की हत्या करने वाले भाइयों को एडीजे-15 की कोर्ट ने मंगलवार को उम्रकैद की सजा सुनाई। दोनों भाई, बहन के कोर्ट मैरिज करने से इतना नाराज थे कि सऊदी अरब से आकर बहन की हत्या को अंजाम दे दिया।

क्‍या है पूरा मामला

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता सुरेश सिंह ने बताया सम्भल के देहली दरवाजा मुहल्ला निवासी रूबी और नखासा थाना क्षेत्र के नरोत्तम सराय निवासी मुहम्मद ताहिर एक-दूसरे से प्रेम करते थे लेकिन, उनके भाई इस शादी के लिए राजी नहीं थे। इसके चलते रूबी और ताहिर ने आठ मार्च, 12 को कोर्ट में जाकर शादी कर ली। रूबी के भाई नासिर और जाकिर सऊदी अरब में नौकरी करते थे। उन्हें इस बात की जानकारी हुई तो उन्होंने इसका विरोध किया। कोर्ट मैरिज के करीब छह माह बाद दोनों भाई घर आए। इस दौरान नासिर ने बहन और बहनोई को फोन कर सभी गलतियों को माफ कर एक साथ रहने की बात कही। बहन भी दोनों भाइयों की बात सुनकर परिवार के साथ मिलजुल कर रहने के लिए राजी हो गई। इसी बीच उन्होंने बहनोई को सऊदी में नौकरी दिलाने की बात कहकर दोनों के पासपोर्ट बनवाने के लिए कहा। दोनों भाइयों ने एक दिसंबर, 12 को पासपोर्ट के लिए कागज के साथ बहन-बहनोई को सम्भल में ही भूरे खां की ज्यारत के पास रात करीब साढ़े आठ बजे बुलाया। यहां नासिर और जाकिर हत्या के मकसद से पहले से तमंचा लेकर बैठे थे। रूबी और ताहिर जब उनके पास पहुंचे तो दोनों भाइयों ने रूबी से कुछ देर बातचीत करने के बाद सीने पर गोली दाग दी। चार माह की गर्भवती रूबी की मौके पर ही मौत हो गई। इसी दौरान ताहिर जान बचाकर भाग निकला। उसने थाने पहुंचकर पूरे घटनाक्रम की जानकारी देकर मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने जांच के बाद दोनों भाइयों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मंगलवार को एडीजे-15 सुभाष सिंह ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद दोषी नासिर और जाकिर को आजीवन कारावास की सुजा सुनाई। इसके साथ ही 35-35 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है।

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप