मुरादाबाद, जेएनएन। ब्लैक फंगस से शुक्रवार रात इलाज के दौरान एक टीटीई की मौत हो गई। इससे रेल कर्मियों व अधिकारियों में शोक है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग टीटीई की मौत ब्लैक फंगस के कारण होने से इन्कार कर रहा है। वहीं, रेलवे के अधिकारी ब्लैक फंगस से मौत की पुष्टि कर रहे हैं। यह ब्लैक फंगस के कारण मुरादाबाद में पहली मौत है।

रेलवे के एक टीटीई दस मई को कोरोना संक्रमित हुए थे। अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के बाद वह ठीक हो गए, लेकिन अस्पताल से छुट्टी मिलने से पूर्व ही नाक में परेशानी होने पर की गई प्राथमिक जांच में ब्लैक फंगस के लक्षण मिले। 17 मई को लैब में जांच के बाद ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई। इसके बाद उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया गया और वहां ब्लैक फंगस का उपचार शुरू हुआ। रेल अस्पताल प्रशासन ने इलाज के लिए प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। 47 वर्षीय टीटीई की शुक्रवार रात इलाज की दौरान मौत हो गई। सूचना मिलते बड़ी संख्या में टीटीई अस्पताल पहुंच गए। सहायक वाणिज्य प्रबंधक नरेश कुमार सिंह ने बताया कि टीटीई की ब्लैक फंगस से मौत हो गई है। दूसरी ओर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एमसी गर्ग ने बताया कि देर रात तक ब्लैक फंगस से मौत होने की उनके पास कोई जानकारी नहीं है।

 

Edited By: Narendra Kumar