मुरादाबाद। नागफनी थाना क्षेत्र में दो माह पहले कोरोना वारियर्स पर पथराव करने वालों से प्रशासनिक अमला सख्ती के साथ निपट रहा है। कोरोना वारियर्स पर हमले के मामले में एक और पत्थरबाज की प्रमुख भूमिका के मद्देनजर उसके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की है। अब तक कुल दो पत्थरबाजों के खिलाफ पुलिस ने एनएसए की कार्रवाई की है। सीओ कोतवाली राजेश कुमार यादव ने बताया कि 15 अप्रैल को कोरोना संक्रमित एक परिवार को क्वारंटाइन कराने गई चिकित्सकों व पुलिस की टीम पर पथराव किया गया था। इसमें एक चिकित्सक समेत आधा दर्जन से अधिक पुलिस व स्वास्थ्य कर्मियों को गंभीर चोटें आईं।

मामले में 21 नामजद समेत कुल दो सौ लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में नागफनी थाने में अभियोग पंजीकृत हुआ। अब तक कुल 30 आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है। इसमें नौ महिलाएं शामिल हैं। छानबीन में पता चला कि नवाबपुरा का रहने वाला तालिब न सिर्फ पत्थरबाजी कर रहा था, बल्कि अराजक तत्वों का नेतृत्व करते हुए उन्हें उकसा रहा था। प्रकरण में तालिब की भूमिका को गंभीर मानते हुए पुलिस ने आरोपित के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की संस्तुति की। इस पर शासन ने भी सहमति की मोहर लगा दी। इसके पूर्व सफाक हुसैन के खिलाफ भी एनएसए की कार्रवाई की जा चुकी है। सीओ कोतवाली ने बताया कि प्रकरण में अभी और कई लोगों की भूमिका की जांच व छानबीन जारी है। राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की जद में आने वालों की फेहरिस्त और लंबी होने की उन्होंने उम्मीद जताई।

पूरे प्रदेश में चर्चा में आया था मामला 

पत्‍थरबाजों ने कोरोना वारियर्स के साथ जिस तरक का व्‍यवहार किया था। वह पूरे सूबे में चर्चा में आ गया था। इसकी वीडियो भी वायरल हुई थी। इसमें पत्‍थरबाज टीम पर ईंट और पत्‍थर फेंकते हुए नजर आ रहे थे। बाद में पुलिस ने मामले में आरोपितों पर सख्‍त कार्रवाई करनी शुरू की थी।

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस