मुरादाबाद, जेएनएन। Beaten up for dowry : माता-पिता ने दो बेटियों की शादी सगे भाइयों के साथ की थी। सोचा था एक घर में दोनों बहनें होंगी तो खुश रहेंगी। परंतु दहेज के दानव ने दोनों बहनों को ससुराल से निकलने पर मजबूर कर दिया। दहेज की मांग पूरी न करने पर उन्हें मारपीट कर घर से निकाल दिया। आरोप है कि दोनों पर जानलेवा हमला भी किया गया है। अब पुलिस अधीक्षक पूनम के आदेश पर इस मामले में सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

मामला नौगावां सादात थाना क्षेत्र के गांव ताजपुर माफी का है। यहां रहने वाली सगी बहन नीतू देवी व मंजू देवी की शादी स्वजन ने बीती 18 जून 2017 को हसनपुर कोतवाली के गांव सहसौली वसी निवासी सगे भाई राहुल व रोहित के साथ की थी। मायके वालों ने शादी में काफी दान-दहेज दिया था। शादी के बाद दोनों बहनें एक ही घर में रह रही थीं। इस दौरान मंजू ने बेटे तो नीतू ने बेटी को जन्म दिया। आरोप है कि ससुराल वालों ने दहेज के लिए उन्हें प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। आए दिन मारपीट की जाती थी। उन्हें मारपीट कर घर से निकाल दिया।

मायके वालों ने रिश्तेदारों के माध्यम से समझौता के माध्यम से उन्हें वापस ससुराल भिजवा दिया। परंतु बाद में भी उन्हें प्रताड़ित किया जाने लगा। आरोप है कि दोनों बहनों को जला कर मारने की कोशिश की गई। दोनों बहनों ने एसपी पूनम को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई कराने की मांग की। एसपी के आदेश पर मंगलवार को नौगावां सादात पुलिस ने राहुल, जयपाल, बालादेवी, रोहित, मोनी, छत्रपाल व मंजू देवी के खिलाफ दहेज उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

Edited By: Samanvay Pandey