मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। सांसद आजम खां के खिलाफ डूंगरपुर प्रकरण में दर्ज पांच मुकदमों में गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में सुनवाई हुई। सांसद करीब पौने दो साल से सीतापुर जेल में बंद है। साल 2019 में डूंगरपुर में मकान तोड़ने और जमीन कब्जाने के आरोप में दर्जन भर मुकदमे दर्ज हुए थे। हालांकि इन मुकदमों में आजम खां नामजद नहीं थे, लेकिन पुलिस ने विवेचना के दौरान पाया कि मकान तोड़ने और कब्जा करने का अपराध इनके इशारे पर किया गया है।

पुलिस ने इस मामले में नामजद अभियुक्तों से पूछताछ की तो उन्होंने भी यह बात स्वीकार की। इसके बाद पुलिस ने सभी मुकदमों में सांसद का नाम भी शामिल कर दिया। इनमें से पांच मुकदमों की सुनवाई गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई। अदालत इन मुकदमाें में अब 27 अक्टूबर को सुनवाई करेगी। दूसरी ओर आजम खां की पत्नी शहर विधायक डा. तजीन फात्मा के रिसोर्ट में बिजली चोरी के मामले में भी गुरुवार को सुनवाई हुई। बिजली विभाग के उपखंड अधिकारी प्रमोद कुमार ने अदालत में बयान दर्ज कराए। इस मामले में शहर विधायक की ओर से जुर्माना भी जमा कराया जा चुका है। अदालत अब इस मामले में 20 अक्टूबर को सुनवाई करेगी।

महंगाई के कारण जनता कर रही त्राहि-त्राहि : रामपुर के शाहबाद में बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष सुरेंद्र सिंह सागर ने कहा कि प्रदेश में गुंडाराज कायम है। आज प्रदेश में चारों तरफ त्राहि-त्राहि मची हुई है। वह ग्राम भरतपुर में ग्राम प्रधान रामपाल सिंह दिवाकर के आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि महंगाई चरम सीमा पर है। आए दिन पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की बढ़ती कीमतों ने जनता का जीना मुश्किल कर दिया है। किसान आत्महत्या करने को मजबूर है। भारतीय जनता पार्टी के मंत्री अपनी गाड़ियों से किसानों को कुचल रहे हैं। प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नहीं है। भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। पढ़े-लिखे युवा नौकरियों के लिए भटक रहे हैं। प्रदेश की जनता बहन जी के शासन को याद कर रही है। इस दौरान उन्होंने ग्राम खिरका निवासी दीप्ति सक्सेना, क्षेत्र पंचायत सदस्य सोहन लाल लोधी, ग्राम प्रधान प्रेमपाल सिंह दिवाकर और उनके साथियों को बसपा की सदस्यता ग्रहण कराई। 

Edited By: Narendra Kumar