मुरादाबाद, जेएनएन। अयोध्या प्रकरण में फैसला आने के बाद पुलिस-प्रशासन जहां लगातार सक्रियता बरत रहा है वहीं आम से लेकर खास लोग भी शांति की अपील कर रहे हैं। इसी कड़ी में मुरादाबाद के साहित्यकार भी अपनी रचनाओं के माध्यम से लोगों में एकता और भाईचारे की अलख जगाते हुए शांति व्यवस्था कायम रखने की अपील कर रहे हैं।  

  मंदिर में हो आरती या मस्जिद आजान,

ईश्वर से है कामना जीते हिंदुस्तान।

-मयंक शर्मा

 

मुख्तलिफ लोग, मुख्तलिफ कौमे।

मुल्क में यकजबान रहते हैं।

रंग जिसमें धनक के बिखरे हैं ।

उसको हिंदुस्तान कहते हैं। 

-मीना नकवी

 अल्लामा इकबाल

 लबरेज है शराब-ए-हकीकत से जाम-ए-हिंद 

सब फलसफी हैं खत्तिा-ए-मगरिब के राम-ए-हिंद 

ये हिंदियों की फिक्र-ए-फलक-रस का है असर 

रिफअत में आसमां से भी ऊंचा है बाम-ए-हिंद 

इस देस में हुए हैं हजारों मलक-सरिश्त 

मशहूर जिन के दम से है दुनिया में नाम-ए-हिंद 

है राम के वजूद पे हिंदोस्तां को नाज अहल-ए-नजऱ समझते हैं इस को इमाम-ए-हिंद 

एजाज इस चराग-ए-हिदायत का है यही 

रौशन-तर-अज-सहर है जमाने में शाम-ए-हिंद 

फिक्रे-फलक-महान चिंतन

रिफअत- ऊंचाई

बामे-हिंद- हिंदी का गौरव या ज्ञान

मलक-देवता

सरिश्त-ऊंचे आसन पर

एजाज- चमत्कार

चिरागे-हिदायत-ज्ञान का दीपक

तिराज सहर-भरपूर रोशनी वाला सवेरा

 

सकल विश्व में साथियों, है अपनी पहचान।

जात-पात से भी परे, सबका ही सम्मान।

आओ मिल कर देश में, इतना बांटे प्यार।

खड़ी न हो पाये कभी, कोई भी दीवार।

चाहे जो भी वर्ग हो, चाहे जो परिवेश।

सबसे पहले साथियों, हमको प्यारा देश।

- राजीव प्रखर, मुरादाबाद

 

निर्णय न्यायालय से आया

सबके ही है मन यह भाया

सभी धर्म समान भारत में

सारी दुनिया को समझाया।

सब नर करहि परस्पर प्रीति

थी राम युग की सुंदर नीति

आज अदालत ने दुहरायी

राम राज्य की कौशल रीति।

रंग बिरंगे फूल चमन में

महके जिनसे वतन हमारा

खिलते मोहक रूप लिये ये

बनें इक दूजे का सहारा।

-डॉ रीता सिंह

किसे पता था एक दिन ये भी हौसला करेंगे,

बैठेंगे कुछ इंसान भगवान पर फैसला करेंगे। 

-कवि ईशांत शर्मा ईशु

 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप