मुरादाबाद : मैंने हर ख्वाहिश पूरी की, उसके बाद भी वो बेवफा निकली। पुलिस कस्टडी में आरिफ ने पांच साल की जिंदगी के दर्द को कुछ यूं बयां किया। उसका कहना था कि ब्यूटी पार्लर से लेकर कपड़ों तक हर माह दो हजार रुपये उसे अलग से खर्च देता था। ताकि फाजिल से दूर हो जाए। उसके बावजूद भी राबिया ने फाजिल को नहीं छोड़ा। दो अक्टूबर को चौबीस घंटे फाजिल के साथ रही तब मायके वालों ने आत्मघाती कदम उठाया है, वरना बेटी की परवरिश के लिए राबिया को हर बार माफ करते आ रहे थे। इतना ही नहीं बात इतनी बढ़ गई थी कि फाजिल ने राबिया को तलाक लेने के लिए राजी कर लिया था।

ये है पूरा मामला

बरेली के सिरौली थाने के प्यास गांव निवासी 22 वर्षीय मुर्गा कारोबारी फाजिल का शव पांच अक्टूबर को पाकबड़ा के सब्जीपुर स्थित ईदगाह में मिला था। गला रेतकर उसकी हत्या की गई थी। पुलिस की जांच में सामने आया कि फाजिल कटघर के करूला स्थित गली नंबर दो में रहने वाली राबिया से प्यार करता था। राबिया की शादी नागफनी के आरिफ से हो चुकी थी, जो एक बेटी की मां थी। दोनों की इस प्रेम कहानी पर राबिया के भाई दिलशाद और रिश्तेदार उवैश ने मिलकर दोनों की हत्या कर दी। राबिया का शव करूला के कब्रिस्तान में दफन कर दिया था। पुलिस ने राबिया के पिता बाबू, मां और पति आरिफ को हिरासत में ले रखा है। सभी से अलग अलग पूछताछ हुई है, जिसमें सामने आया कि दिलशाद और उवैश ने ही दोनों की हत्या की है। हत्या की प्लानिंग पूरे परिवार ने मिलकर बनाई थी।

राबिया से करता था बहुत प्यार 

मंगलवार को राबिया के पति आरिफ से पुलिस ने पूछताछ की। आरिफ का कहना है कि राबिया से बहुत प्यार करता था। दो हजार रुपये प्रतिमाह उसके लिए और बेटी का खर्च अलग से देता था। सऊदी अरब रहते हुए भी राबिया को कभी पैसे की तंगी नहीं रहने दी। उसके बावजूद भी राबिया लगातार फाजिल से मिल रही थी। मेरे घर पर आने के बाद भी 24 घंटे तक बेटी को घर छोड़कर फाजिल के साथ रही। विरोध किया तो तलाक देने की मांग करने लगी थी, तभी मायके वालों ने राबिया और फाजिल की हत्या की प्लानिंग कर मौत के घाट उतार दिया।  

Posted By: Rashid

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप