मुरादाबाद(रितेश द्विवेदी)। देश में नोटबंदी के बाद सरकार ऑनलाइन ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए कई तरीके अपना रही है। कैश का प्रयोग कम करने के लिए सरकार अब धीरे-धीरे एटीएम की संख्या घटाने में लगी है, ताकि लोग ऑनलाइन भुगतान करने के लिए तैयार हो सकें। यह जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक से आरटीआइ के जरिए पूछे गए सवालों के जवाब में मिली है।

यह है पूरा मामला

देश में नवंबर, 2016 में नोटबंदी का एलान किया गया था। एक हजार व पांच सौ के नोटों का चलन बंद कर दिया गया था। साल 2017 में भारत में कार्य कर रहे पब्लिक सेक्टर, निजी सेक्टर के साथ ही विदेशी बैंकों ने 2,21,553 एटीएम (ऑटोमेटेड टेलर मशीन) स्थापित किए थे। पब्लिक सेक्टर के 1,46,907, प्राइवेट बैंकों के 59,365 के साथ ही विदेशी बैंकों के 934 एटीएम काम कर रहे थे। साल 2017 में पांच विदेशी बैंक भारत में 934 एटीएम का संचालन कर रहे थे। वर्ष 2019 में इनके एटीएम की संख्या घटकर 914 हो गई। हालांकि सरकार ने साल 2019 तक दो नए विदेशी बैंक को भारत में काम करने मौका जरूर प्रदान किया। इसके बावजूद एटीएम की संख्या में बढ़ोत्तरी नहीं हुई। वहीं देश में निजी बैंक भी एटीएम की संख्या ज्यादा नहीं बढ़ा रहे हैं। 

साल 2017 में देश में एटीएम की संख्या

पब्लिक सेक्टर बैंक के एटीएम               1,46,907

निजी सेक्टर बैंक के एटीएम                  59,365

विदेशी बैंक के एटीए                            934

उत्तर प्रदेश में एटीएम की संख्या             2017

पब्लिक सेक्टर बैंक के एटीएम                 13,897

निजी सेक्टर बैंक के एटीएम                     3,979

विदेशी बैंक के एटीएम                            49

साल 2019 में देश में एटीएम की संख्या

पब्लिक सेक्टर बैंक के एटीएम                 1,36,098

निजी सेक्टर बैंक के एटीएम                     63,340

विदेशी बैंक के एटीएम                            914

उत्तर प्रदेश में एटीएम की संख्या                    2019

पब्लिक सेक्टर बैंक के एटीएम                    12,764

प्राइवेट सेक्टर बैंक के एटीएम                    4,442

विदेशी बैंक के एटीएम                               50

बैंक जरूरत के हिसाब से एटीएम स्थापित कर रहे हैं। जिले में एसबीआइ के 88 एटीएम संचालित हो रहे हैं। हमने एटीएम की संख्या नहीं घटाई है, लेकिन जहां जरूरत है वहीं पर स्थापित कर रहे हैं।

-दीपक सिंह चंदेल, एजीएम, एसबीआइ, मुरादाबाद मंडल। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप