मुरादाबाद : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त किसानों के खातों में पहुंचनी शुरू हो गई है। कृषि विभाग के अफसरों की मानें तो अभी तक जनपद के किसानों को लगभग एक अरब रुपये का भुगतान हो चुका है। वहीं तीस हजार किसानों के आवेदनों को रद भी किया जा चुका है। इन आवेदनों को क्यों रद किया गया है,अब इसके कारण भी सामने आ रहे हैं। कुछ मामलों में लेखपालों की गलत रिपोर्ट के चलते किसानों को अपात्र पाया गया है। इसके चलते उनके आवेदनों को रद कर दिया गया है। हालांकि जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने इस मामले में शासन को पत्र लिखकर रद किए गए किसानों के आवेदन पर तकनीकी खामियों को जल्द दूर करने की बात भी कही है। कृषि विभाग के उपनिदेशक सीएल यादव ने बताया जनपद में जांच के बाद दो लाख 87 हजार किसानों का डाटा शासन को भेजा गया था। शासन स्तर पर जांच के बाद केवल दो लाख 53 हजार किसानों का डाटा लॉक करने की कार्रवाई की गई है, जबकि अभी तक दो लाख 36 हजार किसानों के खाते में तीन किस्त पहुंच चुकी हैं। अब जिन किसानों का डाटा फिल्टर नहीं हुआ है, उनको लाभ देने के लिए अधिकारियों ने कार्रवाई शुरू कर दी है।

30 हजार किसानों के आवेदन रिजेक्ट

कृषि विभाग ने लगभग तीन लाख किसानों का डाटा लॉक करने के लिए शासन को भेजा था लेकिन, इस डाटा में केवल दो लाख 53 हजार किसानों को पात्र पाया गया। तीस हजार किसानों का डाटा रिजेक्ट कर दिया गया है। इस मामले में स्थानीय अधिकारियों ने शासन को पत्र लिखकर इस बात की जानकारी मांगी है कि आखिर किस आधार पर तीस हजार किसानों के आवेदन रिजेक्ट किए गए है। अफसरों का कहना है कि पीएम किसान सम्मान निधि योजना के आवेदन की कमियों को दूर करसभी पात्र किसानों को लाभ दिया जाएगा। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने बताया कि तकनीकी आधार पर जिन किसानों के आवेदन रिजेक्ट हुए हैं, उन आवेदनों की कमियों को दूर कर किसानों को लाभ दिलाया जाएगा।

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस