जागरण संवाददाता, मीरजापुर : सहकारी समितियों पर यूरिया का टोटा पड़ा हुआ है, अन्नदाता यूरिया के लिए परेशान हैं। किसान खुले बाजार से महंगे दामों पर यूरिया खरीदने को मजबूर हैं। यूरिया के लिए सहकारी समितियों का चक्कर लगाने को मजबूर अन्नदाता है। हांलाकि विध्याचल मंडल में एक रैक यूरिया पहुंचने से किसानों को राहत मिलने के आसार हैं। सहकारी समितियों पर यूरिया का टोटा होने से सन्नाटा पसरा हुआ है, किसानों को बाजार से यूरिया खरीदनी पड़ रही है। ये हालात तब है जबकि यूरिया के निर्धारित लक्ष्य 18631 एमटी के सापेक्ष में किसानों में 10723 एमटी यूरिया वितरण करने का दावा विभाग द्वारा किया जा रहा है। हांलाकि मीरजापुर रेलवे स्टेशन पर 2500 एमटी यूरिया की एक रैक पहुंच चुकी है, इसका वितरण विध्याचल मंडल के मीरजापुर, सोनभद्र व भदोही जनपद में किसानों को किया जाएगा।

जनपद में यूरिया की कमी से किसानों की खेती प्रभावित हो रही है। विकास खंड पटेहरा की समितियों पर यूरिया खाद का टोटा हो गया है। समितियों के चेक इफको में दस दिन से जमा है फिर भी खाद की खेप संस्थाओं पर नही पहुंच सकी है। समितियों पर खाद उपलब्ध नही होने से प्राइवेट खाद विक्रेताओं की चांदी कट रही है। इस वर्ष बरसात भी देर से हुई, जिससे धान की रोपाई भी पछाड़ चल रही है। इसकी भरपाई यूरिया ही करती है लेकिन यूरिया की खेप समितियों पर नहीं पहुंचने से किसानों को 50 रुपए से अधिक मूल्य देकर एक बोरी खाद 45 किग्रा का लेना पड़ रहा है। एडीओ वेद प्रकाश सरोज के अनुसार कृषि विभाग चाहे तो छापे मारी कर बढ़े दाम पर बिक रही यूरिया पर अंकुश लगाया जा सकता है। जमालपुर क्षेत्र के साधन सहकारी समितियों पर यूरिया उर्वरक की किल्लत है। ओडी साधन सहकारी समिति पर 700 बोरी यूरिया का स्टाक शेष, जमालपुर और मठना सहकारी समिति पर 100 बोरा और चौकिया साधन सहकारी समिती पर 40 बोरा यूरिया का स्टाक बचा है जबकि बहुआर साधन सहकारी समिति, ओइनवां पीसीएफ केंद्र पर यूरिया समाप्त हो गया है। किसान सतीश सिंह, बृजनाथ चौबे, केशरी नंदन चौबे, अवधेश कुमार, महेंद्र सिंह, सुभाष सिंह, राधे सिंह यूरिया उपलब्ध कराने की मांग की।

---------- यूरिया की एक रैक लगभग 2500 एमटी की खेफ जनपद में पहुंच चुकी है। रेलवे स्टेशन से अनलोड कराकर जल्द से जल्द विध्याचल मंडल की समितियों पर भिजवाया जाएगा। रैक मिलने से किसानों को यूरिया की किल्लत का सामना नहीं करना पड़ेगा। यदि किसी निजी दुकानदार द्वारा यूरिया की कालाबाजारी की जा रही है तो अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

- मित्रसेन वर्मा, सहायक निबंधक व सहायक आयुक्त सहकारिता, विध्याचल मंडल।

---------------

यूरिया

लक्ष्य 18631

वितरण 10723

उपलब्धिता - 2500 एमटी पहुंची।

--------

डीएपी

लक्ष्य 10211

उपलब्ध 11483

सामान्य डीएपी 2400 एमटी उपलब्ध

रबी की खेती के लिए 24200 एमटी उपलब्ध।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप