जासं, अदलहाट (मीरजापुर) : थानाक्षेत्र के सकरौड़ी गांव स्थित 250 वर्ष पुराने प्राचीन शिवमंदिर में शिवरात्रि पर्व पर भक्तों का सैलाब उमड़ा। चौबीस घंटे भजन कीर्तन के साथ ही भक्तों ने नृत्य व गीत के कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए। बाबा भोलेनाथ के दरबार में भक्तों की उपस्थिति से हर हर महादेव के जयघोष से मंदिर परिसर गूंजता रहा।

सकरौड़ी ग्राम में 250 वर्ष पूर्व स्थापित शिवमंदिर का निर्माण 1997 में कराया गया था। जानकारी के अनुसार 1993 के सितंबर महीने में देहरादून निवासी गिरीश चंद्र रघुबीर इधर से जा रहे थे। उस समय एक सूखी पहाड़ी नदी की तलहटी से गुजरते समय उनकी ²ष्टि मंदिर में स्थापित शिवलिग पर पड़ी। इनके विलक्षण स्वरूप को देखकर वे चकित रह गए और उसे उठाकर अपने साथ ले आए। साथ ही शिव स्तम्भ की प्राण प्रतिष्ठा कराई गई। गिरीश चन्द्र ने अपने पिता श्याम चंद रघुवीर, माता गोविदी व पत्नी आशा की पुण्य स्मृति में रविवार छह जुलाई1997 में मंदिर का निर्माण कराया। महाशिवरात्रि के शुभ अवसर पर चौबीस घंटे कीर्तन के साथ ही सुबह से दर्शनाíथयों का तांता लगा रहा। रात में नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। पूरा कार्यक्रम अरविद श्रीवास्तव की देखरेख में संपन्न हुआ जबकि संचालन पुजारी छ्न्नू लाल प्रजापति द्वारा किया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस