जागरण संवाददाता, जमालपुर (मीरजापुर) : जमीन-जायदाद पाने की हसरत में एक बेटा अपनी ही सौतेली मां का हत्यारा बन गया। जमालपुर थाना क्षेत्र के गोरखी गांव से बीते छह जनवरी को मारपीट के बाद से ही सौतेली मां व बेटा गायब थे। पुलिस मामले की जांच कर रही थी और सात दिन बाद बेटे को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई तो सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा हुआ। पुलिस ने आरोपित के एक दोस्त को भी गिरफ्तार किया है।

सुनीता उर्फ मुन्नी का मायका जमालपुर में हैं। सुनीता के पिता अजगुत ¨सह ने थाने में चार लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर देकर अपनी बेटी की हत्या करने की आशंका व्यक्त की थी। पिता की तहरीर पर पुलिस ने बेटे रामआसरे पटेल उर्फ गोलू पुत्र सर्वजीत ¨सह, विकास ¨सह पुत्र गोपाल ¨सह, विजय ¨सह पुत्र शायर ¨सह, सुरेंद्र ¨सह पुत्र नेगई ¨सह खिलाफ नामजद तहरीर दी थी। मामला पंजीकृत कर जांच में जुटी पुलिस को दो दिन बाद ही लावारिस कार वाराणसी के रामनगर क्षेत्र से बरामद हुई। जिससे हत्या की आशंका और बढ़ गई। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आरोपित बेटे की तलाश के लिए टीमें बनाई गईं थी और रविवार की रात जलालपुर तिराहे से दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। इनके पास हत्या में प्रयुक्त चाकू, एक आल्टो कार, एक बाइक व मृत सुनीता के खून से सने कपड़े बरामद किए गए हैं। गिरफ्तार करने वाली टीम में विष्णुप्रभा ¨सह, राजेश चौबे, चंद्रशेखर ¨सह, तौकीर खां व शेरबहादुर यादव शामिल रहे। रामनगर के पुल से फेंका शव

अभियुक्त रामआसरे उर्फ गोलू ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने जमीन-जायदाद पाने के लिए सौतेली मां को रास्ते से हटाने की योजना बनाई और अपने दोस्तों के साथ मिलकर चाकू से उसका गला रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को कार से लेकर वाराणसी, रामनगर पुल से नीचे गंगा में फेंक दिया। ------------------वर्जन

'सौतेले मां व बेटे के बीच संपत्ति को लेकर काफी दिनों से विवाद चल रहा था। इसी के लिए बेटे ने दोस्तों की मदद से उसने अपनी सौतेली मां की हत्या कर दी। दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है।'

- सूर्यभान, थाना प्रभारी, जमालपुर।

Posted By: Jagran