उत्तर मध्य रेलवे ने माल ढुलाई में 21.3 फीसद की बनाई बढ़त

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : वित्तीय वर्ष की प्रथम तिमाही के समापन पर उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) ने प्रारंभिक माल ढुलाई में 21.3 फीसद की वृद्धि दर्ज की है। अप्रैल, मई और जून माह के दौरान पिछले सभी रिकॉर्ड को पार करते हुए 5.24 मिलियन टन कार्गो लोड किया है। यह 2003 में उत्तर मध्य रेलवे की स्थापना के बाद अब तक का सबसे अच्छा आंकड़ा है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में 4.32 मिलियन टन माल ढुलाई की गई थी। जून 2022 के महीने में 1.81 मिलियन टन लोडिंग की गई जो कि एक महीने का अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन है। इससे 181.02 करोड़ रुपये का राजस्व लाभ हुआ है। इन तीन महीनों के दौरान माल ढुलाई राजस्व 528.56 करोड़ रुपये रहा, जो पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 438.54 करोड़ रुपये की माल ढुलाई से 20.53 फीसद अधिक है।

उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान और हरियाणा राज्यों में उत्तर मध्य रेलवे अपना दायरा फैला रखा है। भारतीय रेलवे का एक महत्वपूर्ण अंग है जो दादरी, कानपुर, आगरा और मालनपुर से कंटेनरों की लोडिंग में योगदान देता है। कानपुर के पास पनकी से उर्वरक, परीछा (झांसी के पास) और चुनार से सीमेंट के बाद रिफाइनरी मथुरा, कानपुर के पास एचपीटीआर और बीपीसीएल पनकी से पेट्रोलियम आयल लुब्रिकेंट्स को पहुंचाने में उत्तर मध्य रेलवे अपना पूरी सहभागिता निभाता है। यहीं नहीं एटा, कानपुर, सोनभद्र, मीरजापुर, प्रयागराज, फतेहपुर, शंकरगढ़ और ललितपुर के अलावा मध्य प्रदेश के टीकमगढ़, दतिया, डबरा और नेवाड़ी जैसे विभिन्न स्थानों से खाद्यान्न का लदान किया जाता है। हालांकि सीमेंट के अतिरिक्त सभी वस्तुओं के लदान में वृद्धि दर्ज की गई है।

पार्सल से हुआ लाभ

पार्सल यातायात में भी पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष वृद्धि दर्ज की गई है। उत्तर मध्य रेलवे ने पहली तिमाही के दौरान कुल पार्सल आय का 7.66 करोड़ रुपये हासिल किया है, पिछले वर्ष की इसी अवधि में 4.17 करोड़ रुपये की आय हुई थी, जो कि 83.7 फीसद की वृद्धि है।

आरक्षित व अनारक्षित टिकटों ने भी दर्ज कराई वृद्धि

उत्तर मध्य रेलवे की कोचिंग आय ने आरक्षित और अनारक्षित दोनों क्षेत्रों में उल्लेखनीय आंकड़ों को छू लिया है। अप्रैल से जून माह 2022 की अवधि के दौरान आरक्षित टिकट काउंटरों से 512.27 करोड़ रुपये की आय तथा अनारक्षित टिकट बिक्री से 138.69 करोड़ रुपये का राजस्व लाभ हुआ है। इसके अलावा, टिकट जांच से 52 करोड़ रुपये की आय हुई है।

-----------

सीमेंट लदान में वृद्धि के लिए सभी प्रयास करें, ताकि रेलवे निर्धारित लक्ष्य को पार कर सके। उपलब्धियां प्रशंसनीय हैं, लेकिन हमें गति को बनाए रखने और रेलवे बोर्ड की ओर निर्धारित लक्ष्यों को पार करने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

प्रमोद कुमार, महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे।

Edited By: Jagran