मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, मीरजापुर : नगर पालिका परिषद के वार्ड संख्या-पांच पक्का पोखरा मोहल्ले में जलनिकासी की समस्या अब मच्छरों के प्रकोप में बदल गई है। स्थानीय लोगों को बीमारियां होने का भय है और इसकी दर्जनों बार शिकायत की गई लेकिन नगर पालिका की ओर से कोई काम नहीं कराया गया। दस वर्ष के दौरान आधी-अधूरी सफाई तो हुई लेकिन नाले के ब्लाकेज एरिया को नहीं खोला गया जिससे समस्या जस की तस बनी हुई है।

पक्का पोखरा मोहल्ले में करीब 300 मीटर की नाली का निर्माण दस वर्ष पहले कराया गया। तब से लेकर अब तक यहां जनसंख्या का दबाव भी बढ़ा और पानी निकासी की यह धीरे-धीरे गड्ढों में तब्दील हो गई। कई निकासी बिल्कुल बंद हो जाने की वजह से गंदा पानी इकट्ठा होन लगा और यहां मच्छरों की संख्या में कई गुना तेजी आई। स्थानीय निवासी पंकज ने बताया कि गंदगी के साथ दुर्गंध और मच्छरों की वजह से यहां के लोगों का जीना मुहाल हो गया है। वार्ड सभासद सहित नगर पालिका परिषद के अधिकारी, कर्मचारी भी इस समस्या से वाकिफ हैं लेकिन कहीं से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। इसी रास्ते से कनौरा घाट, बेलवन, खजूरी, अर्जुनपुर, महेवा, बेदौली सहित दर्जनों गांवों के लोग आते-जाते हैं जिन्हें ओवरफ्लो हो रहे नाले से काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। बारिश के दिनों में पास की वैष्णोपुरी व पुलिस कालोनी के निचले फ्लोर में एक फीट तक पानी भर जाता है। स्थानीय लोगों की मांग है कि यहां सीवरलाइन डालकर इस समस्या का समाधान किया जाए। लोग बोले-

'नगर पालिका परिषद में शिकायत करने के बाद नाले की सफाई तक नहीं कराई गई। इससे सैकड़ों लोग परेशान हैं लेकिन पता नहीं क्यों सुनवाई नहीं हो रही।'

- विनोद यादव

------------------------------------------

'सुबह-शाम इस रास्ते से निकलना मुश्किल हो जाता है। इतनी दुर्गंध होती है कि सांस लेना भारी पड़ जाता है। न जाने कब पालिका प्रशासन इस पर ध्यान देगा।'

- फकीर चौहान

-------------------------------------------

'एक बार नहीं कई बार इस समस्या को बताया गया लेकिन किसी के पास जैसे समय ही नहीं कि इन जरुरी मसलों पर काम कर ले।'

- विक्की

---------------------------------------

'बारिश के समय यहां के हालात डूब क्षेत्र जैसे हो जाते हैं। कई दिनों तक घरों में कैद रहने की नौबत आ जाती है। कम से कम निकासी सही कराए जाए।'

- अर्जुन चौहान

------------------------------------------

'यहां पर नई अंडरग्राउंड सीवर लाइन डालकर इस समस्या का समाधान किया जा सकता है। नगर पालिका को इस पर विचार करना चाहिए।'

- राजा

---------------------------------------------

'प्रशासन चाहे तो यह छोटी सी समस्या चंद घंटों में ठीक हो जाए। आश्चर्य है कि दस वर्ष हो गए और नाली की सफाई तक नहीं कराई गई।'

- सुनील कुमार

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप