जागरण संवाददाता, अहरौरा (मीरजापुर) : स्थानीय थाना क्षेत्र के खाजगीपुर गांव में गुरुवार को आक्रोशित बरातियों द्वारा की गई मारपीट में हुई सरोज की मौत के प्रकरण में पुलिस ने मृतक के पिता की तहरीर पर शुक्रवार की शाम छह नामजद और 25 अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या सहित अन्य संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। पुलिस मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की तलाश में जुटी हुई है। वही शुक्रवार की शाम मृतक सरोज के भाई सुरेंद्र की भी ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान मौत हो गई। अब तक इस मामले में तीन मौत हो चुकी हैं। थानाध्यक्ष राजेश चौबे ने बताया कि हत्या का मुकदमा शुक्रवार को दर्ज किया गया है। फरार आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी की जाएगी।

बताया कि मृतक के पिता जय मूरत सिंह ने शुक्रवार की शाम तहरीर दिया कि बुधवार की रात खाजगीपुर गांव निवासी प्रभाकर सिंह के यहां छित्तकपुर गांव से बरात आई हुई थी। बुधवार की रात लगभग नौ बजे बरात में आए 60 वर्षीय समर सिंह को एक अज्ञात ट्रक धक्का मारते हुए भाग निकला। घटना के आधा घंटा बाद छोटा बेटा सुरेंद्र सिंह काम कर के घर लौट रहा था जैसे ही वह अहरौरा चकिया मुख्यमार्ग पर स्थित लिक मार्ग के समीप पहुंचा कि तभी छित्तकपुर गांव निवासी बराती निखिल सिंह, अंकित, शमशेर, शेखर सिंह, आनंद सिंह, सतीश सिंह पुत्रगण अज्ञात व अन्य अज्ञात लोगों के साथ मिलकर उसे ट्रक चालक समझकर उसके ऊपर जानलेवा हमला बोल दिया। इसी दौरान बड़ा बेटा सरोज अहरौरा बाजार से घर वापस लौट रहा था। भाई को भीड़ में पीटता देख बीच बचाव करने लगा, तभी बरातियों ने ईंट पत्थर से उसके ऊपर भी हमला बोल दिया। शोर शराबा की आवाज सुनकर पौत्र लव सिंह और रोहित पटेल मौके पर पहुंचे कि इसी दौरान सरोज और सुरेंद्र को मृत समझकर आरोपित मौके से भाग निकले। स्वजनों द्वारा दोनों को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। इस दौरान सरोज की मौत हो गई। वहीं सुरेंद्र का गंभीर अवस्था में इलाज ट्रामा सेंटर में चल रहा है। जहां उसकी स्थिति नाजुक बनी हुई है। पुलिस तहरीर के आधार पर नामजद छह और अज्ञात 25 के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन में जुटी हुई है।

.....

छोटे बेटे की भी इलाज के दौरान हुई मौत-

अहरौरा : शुक्रवार की शाम वाराणसी के ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान हमले में गंभीर रूप से घायल सुरेंद्र की भी मौत हो गई। अब तक पूरे घटना में तीन मौत हो चुकी है। वहीं पुलिस हत्या सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। दो भाईयों की मौत के बाद पूरा परिवार टूट गया है और सहमा हुआ है।

पिता जय मूरत ने बताया बूढ़े कंधों से अपने जवान बेटे को अर्थी देने की जो पीड़ा हो रही है वह शब्दों में बयां नहीं की जा सकती है। जो मेरे बुढ़ापा का सहारा बनने वाले थे। असमय उसकी मौत की पीड़ा दंश झेलना पड़ रहा है। एक बेटा गंवाने के बाद सोचा कि दूसरे की इलाज के दौरान जिदगी बच जाएगी लेकिन शुक्रवार की उसने भी दम तोड़ दिया। गुरुवार की देर शाम बड़े बेटे का अंतिम संस्कार किया और छोटे बेटे के इलाज के लिए व्यस्त हो गया। जिस वजह से शुक्रवार को आरोपियों के खिलाफ तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस से बेटे के हत्यारे की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की है। गुरुवार को सरोज के शव का अंतिम संस्कार किया ही गया था इसके बाद सुरेंद्र की मौत से गांव में शोक की लहर दौड़ पड़ी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप